For the best experience, open
https://m.grehlakshmi.com
on your mobile browser.

10 प्रकार के योग, जो आपको अवश्य जानना चाहिए: 10 Different Types of Yoga

07:00 AM Jun 18, 2024 IST | Ankita A
10 प्रकार के योग  जो आपको अवश्य जानना चाहिए  10 different types of yoga
10 Different Types of Yoga
Advertisement

10 Different Types of Yoga: ‘योग’ को कई अलग-अलग नामों से जाना जाता हैI इसे प्राणायाम, योग, योगा भी कहा जाता हैI योग एक संस्कृत शब्द है और यह युज शब्द से आया है, जिसका अर्थ होता है इकट्ठा होना या बांधनाI योग शब्द हिंदू धर्म, जैन धर्म और बौद्ध धर्म में ध्यान की प्रक्रिया से संबंधित हैI योग का अभ्यास बैठ कर किया जाता हैI यह एक आध्यात्मिक प्रक्रिया है, जिसमें शरीर, मन और आत्मा संयुक्त होते हैंI योग काफी शक्तिशाली और प्रभावशाली होता हैI इसे अपने दैनिक जीवन में शामिल करने से कई शारीरिक और मानसिक लाभ प्राप्त होते हैंI

अधिकांश लोगों को इसके अलग-अलग प्रकार के बारे में पता नहीं होता हैI  वे योग के आसनों को ही इसका प्रकार समझते हैं, पर ऐसा नहीं हैI योग के कई अलग-अलग प्रकार होते हैं, जिससे साधक को कई अलग-अलग लाभ प्राप्त होते हैंI आइए योग के अलग-अलग प्रकार के बारे में विस्तार से जानते हैंI

Also read: Yoga Postures: स्वस्थ रहने के लिए अपनाएं ये योग मुद्राएं

Advertisement

10 Different Types of Yoga
Ashtanga Yoga

यह योग की सबसे प्रचलित धारा हैI अष्टांग योग के आठ अंग होते हैं, इसलिए इसे अष्टांग योग कहा जाता हैI इसके आठ अंग कुछ इस तरह से हैं: यम, नियम, आसन, प्राणायाम, प्रत्याहार, धारणा, ध्यान और समाधिI इन आठ अंगों के अपने-अपने उप अंग भी होते हैंI इन आठ अंगों में से तीन अंगों पर ही सबसे ज्यादा जोर दिया जाता है, जो हैं आसन, प्राणायाम और ध्यानI भगवान बुद्ध का आष्टांगिक मार्ग भी योग के इन्हीं आठ अंगों का ही एक हिस्सा हैI इस योग को राजयोग के नाम भी जाना जाता हैI

Karma Yoga
Karma Yoga

कर्म योग सेवा का मार्ग है और हममें से कोई भी मनुष्य इस मार्ग से नहीं बच सकता हैI कर्म योग का सिद्धांत यह है कि जो आज हम जो कुछ भी अनुभव करते हैं वह हमारे कार्यों द्वारा अतीत में बनाया गया है और किया गया है, यह उसी का फल हैI इस बारे में जागरूक होकर हम वर्तमान को अच्छा भविष्य बनाने का एक रास्ता बना सकते हैं, जो हमें नकारात्मकता और स्वार्थ से बाध्य होने से मुक्त करता हैI कर्म योग आत्म-आरोही कार्रवाई का मार्ग हैI जब हम मन में बिना किसी लालच के अपना काम करते हैं, जीवन निस्वार्थ रूप से अपना जीवन जीते हैं और दूसरों की सेवा करते हैं तो हम कर्म योग करते हैंI

Advertisement

Bhakti Yoga
Bhakti Yoga

भक्ति योग, भक्ति के मार्ग के बारे में बताता हैI सभी के लिए सृष्टि में परमात्मा को देखकर, भक्ति योग भावनाओं को नियंत्रित करने का एक सकारात्मक तरीका हैI भक्ति योग का मार्ग हम सभी के लिए स्वीकार्यता और सहिष्णुता पैदा करने का अवसर प्रदान करता हैI

Gyan Yoga
Gyan Yoga

अगर भक्ति योग मन का योग हैं, तो ज्ञान योग बुद्धि का योग हैI इस पथ पर चलने के लिए योग के ग्रंथों और प्राचीन ग्रंथों के अध्ययन के माध्यम से बुद्धि के विकास की आवश्यकता होती हैI ज्ञान योग को सबसे कठिन योग माना जाता है और साथ ही साथ यह सबसे प्रत्यक्ष योग भी हैI इस योग में साधक को गंभीर अध्ययन करना होता हैI यह योग उन लोगों को आकर्षित करता है जो बौद्धिक रूप से इसके इच्छुक होते हैंI

Advertisement

Hatha Yoga
Hatha Yoga

'हठ' शब्द का शाब्दिक अर्थ होता है जबर्दस्ती करना, लेकिन जब 'हठ' शब्द के साथ 'योग' जुड़ जाए, तो वह आध्यात्मिक हो जाता हैI 'हठ' शब्द दो अक्षरों से मिल कर बना हुआ हैI पहला  शब्द 'ह' हकार यानी दाई  नासिका स्वर, जिसे पिंगला नाड़ी कहते हैंI दूसरा शब्द 'ठ' ठकार यानी बाई  नासिका स्वर, जिसे इड़ा नाड़ी कहते हैंI इन दोनों स्वरों के योग से 'हठ योग' बनता है, जिससे मध्य स्वर या सुषुम्ना नाड़ी में प्राण का आवागमन होता है और इसमें कुंडलिनी शक्ति व चक्र जागृत होते हैंI

Anusaar Yoga

अनुसार योग, हठ योग का ही एक रूप माना जाता हैI इस योग की शुरुआत अमेरिकी योग टीचर जॉन फ्रेंड ने 1997 में शुरू किया थाI पश्चिम देशों की स्वास्थ्य आधारित दृष्टिकोण और अध्यात्म के तमाम तत्वों को एक साथ मिला कर इस योग को विकसित किया गयाI द स्कूल ऑफ हठ योगा दुनिया भर में योग के टीचर्स के लिए मानक बनाने का काम करता हैI

Kundalini Yoga
Kundalini Yoga

कुंडलिनी योग सबसे अधिक आध्यात्मिक और कठिन योग है, जिसका उद्देश्य रीढ़ की हड्डी के आधार पर ऊर्जा को अनलॉक करना होता हैI इसमें आत्म-जागरूकता और आंतरिक शांति को बढ़ाने में मदद करने के लिए जप, ध्यान और विशिष्ट आसन शामिल होते हैंI लम्बे अभ्यास के बाद इस योग की प्राप्ति होती हैI

Prenatal Yoga

प्रसव पूर्व योग खासतौर पर गर्भवती महिलाओं के लिए तैयार किया गया है, जिसमें गर्भावस्था की अवधि के दौरान महिलाओं के शरीर में लचीलापन और ताकत बढ़ाने वाले आसनों पर ध्यान केंद्रित किया जाता हैI यह योग गर्भावस्था से संबंधित तनाव और चिंता को कम करने में काफी मददगार होता है, साथ ही यह शरीर को प्रसव के लिए तैयार करने का भी काम करता हैI

Yin Yoga
Yin Yoga

यिन योग गहरे संयोजी ऊतकों को लक्षित करने का काम करता है, क्योंकि इस योग में साधक को लंबे समय तक आसन धारण करने की जरूरत पड़ती हैI यह योग धैर्य विकसित करने और लचीलेपन को बेहतर बनाने में काफी मदद करता हैI

Vinyasa Yoga
Vinyasa Yoga

विन्यास योग को अपनी तरल और गतिशील गतिविधियों के लिए जाना जाता हैI इस योग की सबसे खास बात यह है कि यह एक नृत्य की तरह होता है, जिसमें प्रत्येक मुद्रा अगले आसन में आसानी से परिवर्तित होती हैI इसमें सांस को गति के साथ समन्वयित किया जाता हैI साथ ही यह शरीर की जागरूकता बढ़ाने, तनाव को कम करने, ध्यान और एकाग्रता में सुधार करने में काफी मदद करता हैI

  • योग हमारे दिमाग को शांत रखने में मदद करता हैI
  • योग तनाव से राहत प्रदान करता है और बेहतर नींद लाता हैI
  • योग शरीर में ऊर्जा का संचार करने का काम करता हैI
  • योग से हृदय रोग, मधुमेह और अस्थमा जैसी कई अन्य बीमारियाँ दूर होती हैंI
  • योग से वजन नियंत्रण में रहता हैI
  • योग हमारे पाचन तंत्र को मजबूत करता हैI
  • योग तनाव मुक्त जीवन प्रदान करता हैI
Advertisement
Tags :
Advertisement