For the best experience, open
https://m.grehlakshmi.com
on your mobile browser.

धीमा जहर है आर्टिफिशियल फूड कलर, कई गंभीर बीमारियों का बन सकता है कारण: Artificial Food Colour Effects

09:30 AM Jun 27, 2024 IST | Pinki
धीमा जहर है आर्टिफिशियल फूड कलर  कई गंभीर बीमारियों का बन सकता है कारण  artificial food colour effects
Artificial Food Colour Effects
Advertisement

Artificial Food Colour: आजकल भोजन के स्वाद से पहले उसके रंग को देखकर पसंद किया जाता है। और बाहर जाकर खाना इस समय का ट्रैंड बन गया है। ऐसे में लोग इन बातों पर भी ध्यान नहीं देते कि वो क्या और कितना खा रहे हैं। बाहर मिलने वाले इन अधिकतर खाद्य पदार्थों में उसके रंग को बरकरार रखने के लिए आर्टिफिशियल फूड कलर का इस्तेमाल किया जाता है। लेकिन क्या आप जानते हैं ये आर्टिफिशियल फूड कलर आपके स्वास्थ्य के लिए धीमा जहर साबित हो सकता है। दरअसल, हाल ही में कर्नाटक सरकार ने आर्टिफिशियल फूड कलर वाले भोजन पर बैन लगाया है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, कर्नाटक के स्टेट फूड एण्ड सैफ्टी क़्वालिटी विभाग ने हाल ही में 39 अलग-अलग चिकन, मछली और अन्य कबाबों की जांच की, जिसमें से 7 सैंपल में उन्हें आर्टिफिशियल फूड कलर ( सनसेट येलो और कारमोइसिन) पाया गया। सनसेट येलो और कारमोइसिन सेहत के लिहाज से खतरनाक है। इसके सेवन से कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी होने का खतरा हो सकता है। इस आर्टिकल में हम आपको आर्टिफिशियल फूड कलर के सेवन से होने वाले दुष्प्रभाव के बारे में बताएंगे।

Read Also: गर्मियों में तरबूज और नारियल से बनाएं बर्फी, जानें रेसिपी: Watermelon Coconut Barfi

Advertisement

अटेंशन डेफिसिट हाइपरएक्टिविटी डिसऑर्डर

आर्टिफिशियल फूड कलर युक्त भोजन का लम्बे समय तक लगातार सेवन करने से किसी भी चीज़ पर फोकस करने की क्षमता प्रभावित होती है, जिसे अटेंशन डेफिसिट हाइपरएक्टिविटी डिसऑर्डर कहा जाता है। इस बीमारी को कार्सिनोजेन के नाम से भी जाना जाता है।

त्वचा और बालों को नुकसान

Artificial Food Colour
damage to skin and hair

आर्टिफिशियल फूड कलर से बने भोजन को खाने से त्वचा और बालों को भी नुकसान पहुंचता है। स्टडी के मुताबिक, खाने में इस्तेमाल होने वाला पीला रंग जिसे टार्ट्राज़िन कहा जाता है, के इस्तेमाल से अस्थमा और पित्ती जैसी स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं।

Advertisement

कैंसर का खतरा

आर्टिफिशियल फूड कलर का इस्तेमाल कर बनाए जाने वाले भोजन में बेंजीन पाया जाता है, जिसे कार्सिनोजेन नाम से जाना जाता है। इसके अलावा अन्य फूड कलर्स में बहुत से केमिकल होते हैं जो कैंसर जैसी खतरनाक बीमारी का खतरा पैदा करे हैं।

नेचुरल फूड कलर पर दें ध्यान

अगर आपको अपने खाने में रंग का इस्तेमाल करना है तो आप लाल रंग के तौर पर चुकंदर के जूस या उसके पाउडर का चुनाव कर सकते हैं। पीले रंग के लिए आप केसर या कच्ची हल्दी का उपयोग करें। हरे रंग के लिए आप पालक के जूस या पालक के पत्तों के पेस्ट को अपने खाने में डालें।

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement