For the best experience, open
https://m.grehlakshmi.com
on your mobile browser.

बेवकूफ़ - कहानियां जो राह दिखाएं

09:00 PM Jun 19, 2024 IST | Reena Yadav
बेवकूफ़   कहानियां जो राह दिखाएं
bevakoof
Advertisement

Hindi Story: मिश्रा जी की पत्नी ने बाजार में खरीददारी करते हुए उनसे पूछ लिया कि ऐ जी, यह सामने गहनों वाली दुकान पर लगे हुए बोर्ड पर क्या लिखा है, कुछ ठीक से समझ नहीं आ रहा। मिश्रा जी ने कहा कि बिल्कुल साफ-साफ तो लिखा है कि कहीं दूसरी जगह पर धोखा खाने या बेवकूफ बनने से पहले हमें एक मौका जरूर दे। मिश्रा जी ने नाराज़ होते हुए कहा कि मुझे लगता है कि भगवान ने सारी बेवकूफियों करने का ठेका तुम मां-बेटे को ही देकर भेजा है। इतना सुनते ही पास खड़े मिश्रा जी के बेटे ने कहा कि घर में चाहे कोई भी सदस्य कुछ गलती करें, आप मुझे साथ में बेवकूफ क्यूं बना देते हो?

मिश्रा जी ने कहा कि तुम्हें बेवकूफ़ न कहूं तो क्या कहूं? तुमसे बड़ा बेवकूफ़ तो इस सारे जहां में कोई दूसरा हो ही नहीं सकता। अपना पेट काट-काट कर और कितने पापड़ बेलने के बाद मुश्किल से तुम्हारी बीए की पढ़ाई पूरी करवाई थी कि तुम मेरे कारोबार में कुछ सहायता करोगे। परंतु अब दुकान पर मेरे काम में कुछ मदद करने की बजाए सारा दिन गोबर गणेश की तरह घर में बैठ कर न जाने कौन से हवाई किले बनाते रहते हो। तुम्हारे साथ तो कोई कितना ही सिर पीट ले, परंतु तुम्हारे कान पर तो जूं तक नहीं रेंगती। मुझे एक बात समझाओ कि सारा दिन घर में घोड़े बेच कर सोने और मक्खियां मारने के सिवाए तुम करते क्या हो? मैं तो आज तक यह भी नहीं समझ पाया कि तुम किस चिकनी मिट्टी से बने हुए हो कि तुम्हारे ऊपर मेरी किसी बात का कोई असर क्यूं नहीं होता?

मिश्रा जी को और नीला-पीला होते देख उनकी पत्नी ने गाल फुलाते हुए कहा कि यहां बाजार में सबके सामने मेरे कलेजे के टुकड़े को नीचा दिखा कर यदि तुम्हारे कलेजे में ठंडक पड़ गई हो तो अब घर वापिस चले क्या? मिश्रा जी ने किसी तरह अपने गुस्से पर काबू करते हुए अपनी पत्नी से कहा कि तुम्हारे लाड़-प्यार की वजह से ही इस अक्ल के दुश्मन की अक्ल घास चरने चली गई है। मुझे तो हर समय यही डर सताता है कि तुम्हारा यह लाड़ला किसी दिन जरूर कोई उल्टा-सीधा गुल खिलायेगा। मैं अभी तक तो यही सोचता था कि पढ़ाई-लिखाई करके एक दिन यह काठ का उल्लू अपने पैरों पर खड़ा हो जायेगा, लेकिन मुझे ऐसा लगने लगा है कि मेरी तो किस्मत ही फूटी हुई है। हर समय कौए उड़ाने वाला और ख़्याली पुलाव पकाने वाला तुम्हारा यह बेटा तो बिल्कुल कुत्ते की दुम की तरह है जो कभी नहीं सीधी हो सकती।

Advertisement

मिश्रा जी की पत्नी ने अपने मन का गुबार निकालते हुए कहा कि आप एक बार अपने तेवर चढ़ाने थोड़े कम करो तो फिर देखना कि हमारा बेटा कैसे दिन-दूनी और रात चौगुनी तरक्की करता है। आप जिस लड़के के बारे में यह कह रहे हो कि वो अपने पैरों पर खड़ा नहीं हो सकता उसमें तो पहाड़ से टक्कर लेने की हिम्मत है। यह तो कुछ दिनों का फेर है कि उसका भाग्य उसका साथ नहीं दे रहा। बहुत जल्दी ऐसा समय आयेगा कि चारों ओर हमारे बेटे की तूती बोलेगी उस समय तो आप भी दांतों तले उंगली दबाने से नहीं रह पाओगे। मिश्रा जी का बेटा जो अभी तक पसीने-पसीने हो रहा था, अब तो उसकी भी बत्तीसी निकलने लगी थी।

अपनी पत्नी की बिना सिर-पैर की बातें सुन कर मिश्रा जी का खून खौलने लगा था। बेटे की तरफदारी ने उल्टा जलती आग में घी डालने का काम अधिक कर दिया। मिश्रा जी ने पत्नी को समझाते हुए कहा कि मैंने भी कोई धूप में बाल सफेद नहीं किए, मैं भी अपने बेटे की नब्ज को अच्छे से पहचानता हूं। सिर्फ कागजी घोड़े दौड़ने से या तीन-पांच करने से कभी डंके नहीं बजा करते। ऐसे लोग तो लाख के घर को भी खाक कर देते हैं। तुम पता नहीं सब कुछ समझते हुए भी बेटे के साथ मिल कर सारा दिन क्या खिचड़ी पकाती रहती हो? क्या तुम इतना भी नहीं जानती कि जिन लोगों के सिर पर गहरा हाथ मारने का भूत सवार होता है उन्हें हमेशा लेने के देने पड़ते हैं। यह जो जोड़-तोड़ और हर समय गिरगिट की तरह रंग बदलने वाले लोग होते हैं, उन्हें एक दिन बड़े घर की हवा भी खानी पड़ती है।

Advertisement

मिश्रा जी के घर की महाभारत को देखने के बाद जौली अंकल कोई परामर्श या सलाह देने की बजाए यही मंत्र देना चाहते हैं कि किसी काम से अनजान होना इतने शर्म की बात नहीं होती जितना की उस काम को करने के लिए कतराना। इसलिये हर मां-बाप यही चाहते हैं कि संतान अच्छी होनी चाहिए जो कहने में हो तो वो ही लोक और परलोक में सुख दे सकती है। इस बात को तो कोई भी नहीं झुठला सकता कि भाग्य के सहारे बैठे रहने वाले को कभी कुछ नहीं मिलता और ऐसे लोगों को सारी उम्र पछताना पड़ता है, इसलिए जमाना शायद उन्हें बेवकूफ कहता है।

Advertisement
Advertisement
Tags :
Advertisement