For the best experience, open
https://m.grehlakshmi.com
on your mobile browser.

क्या आप जानते हैं शहर बनारस के 5 से ज़्यादा नामों के बारे में: Different Name of Banaras

06:30 AM May 31, 2024 IST | Ayushi Jain
क्या आप जानते हैं शहर बनारस के 5 से ज़्यादा नामों के बारे में  different name of banaras
Different Name of Banaras
Advertisement

Different Name of Banaras: बनारस, जिसे काशी के नाम से भी जाना जाता है, मोक्ष की नगरी के रूप में प्रसिद्ध है। हिंदू धर्म में, ऐसा माना जाता है कि यहां पर शरीर त्यागने पर मनुष्य को मोक्ष प्राप्त होता है। यह शहर अपनी समृद्ध संस्कृति, प्राचीन इतिहास और आध्यात्मिक महत्व के लिए जाना जाता है। बनारस को दुनिया के सबसे पुराने शहरों में गिना जाता है। कुछ विद्वानों का मानना है कि इसका इतिहास 3000 साल पुराना है, यानी 11वीं शताब्दी का है। वहीं, कुछ अन्य विद्वानों का दावा है कि गंगा नदी के किनारे बसा यह शहर 4000-5000 साल पुराना है। इतिहास के अनुसार, भगवान शिव ने इस शहर का निर्माण किया था।

तब से, यह शहर हिंदू धर्म, बौद्ध धर्म और जैन धर्म के लिए एक महत्वपूर्ण तीर्थस्थल रहा है। बनारस कई प्रसिद्ध मंदिरों, घाटों और विश्वविद्यालयों का घर है। काशी विश्वनाथ मंदिर, अन्नपूर्णा मंदिर, तुलसी मानस मंदिर और मणिकर्णिका घाट, दशाश्वमेध घाट और असी घाट जैसे कुछ प्रसिद्ध स्थल यहां देखे जा सकते हैं। यह शहर कला, शिक्षा और दर्शन का भी केंद्र रहा है। यहां कई प्रसिद्ध कवि, लेखक, संगीतकार और दार्शनिकों ने जन्म लिया है। आज भी, बनारस एक जीवंत शहर है जो अपनी प्राचीन परंपराओं और आधुनिकता का मिश्रण प्रस्तुत करता है। लेकिन क्या आप जानते हैं की बनारस के 5 से ज्यादा नाम हैं अगर आप नहीं जानते हैं तो आज हम आपको बनारस के 8 नामों के बारें में बताएंगे, तो चलिए जानते हैं।

Also read : पान, जिसकी सत्ता हमेशा कायम रहेगी: Paan Culture in India

Advertisement

बनारस के 8 नामों के बारें में जानिए

काशी, वाराणसी का एक प्राचीन नाम है, जो भगवान शिव के साथ अपने अटूट संबंध के लिए जाना जाता है। हिंदू धर्म में, काशी को सबसे पवित्र शहरों में से एक माना जाता है। यह मोक्ष (आत्मा की मुक्ति) प्राप्त करने का स्थान माना जाता है। भगवान शिव को काशीनाथ या काशी विश्वनाथ के नाम से भी जाना जाता है, जिसका अर्थ है "काशी के स्वामी"। पुराणों के अनुसार, भगवान शिव ने काशी को अपना निवास स्थान चुना और यहां गंगा नदी के तट पर विश्वनाथ ज्योतिर्लिंग की स्थापना की। काशी में कई प्राचीन मंदिर हैं जो भगवान शिव को समर्पित हैं, जिनमें काशी विश्वनाथ मंदिर, अन्नपूर्णा मंदिर, नन्दी मंदिर और त्र्यंबकेश्वर मंदिर शामिल हैं। हिंदू धर्मग्रंथों में काशी का उल्लेख एक पवित्र तीर्थस्थल के रूप में किया गया है, जहां तीर्थयात्री अपने पापों को धोने और मोक्ष प्राप्त करने के लिए आते हैं। काशी न केवल एक धार्मिक स्थल है, बल्कि एक जीवंत शहर भी है जो अपनी समृद्ध संस्कृति, कला और परंपराओं के लिए जाना जाता है। यह शहर विभिन्न धर्मों, भाषाओं और संस्कृतियों का संगम है। काशी में गंगा नदी के किनारे कई घाट हैं, जहां लोग स्नान करते हैं, प्रार्थना करते हैं और मृतकों का अंतिम संस्कार करते हैं।

अविमुक्त क्षेत्र, वाराणसी का एक प्राचीन नाम है, जो मोक्ष (आत्मा की मुक्ति) प्राप्त करने की शक्ति के लिए जाना जाता है। हिंदू धर्म में, अविमुक्त क्षेत्र को सबसे पवित्र स्थानों में से एक माना जाता है। यह मुक्ति का द्वार माना जाता है, जहां मनुष्य अपने जीवनकाल में ही मोक्ष प्राप्त कर सकते हैं। पुराणों के अनुसार, भगवान शिव ने अविमुक्त क्षेत्र को अपना निवास स्थान बनाया और यहां गंगा नदी के तट पर विश्वनाथ ज्योतिर्लिंग की स्थापना की। अविमुक्त क्षेत्र में कई प्राचीन मंदिर हैं जो भगवान शिव को समर्पित हैं, जिनमें काशी विश्वनाथ मंदिर, अन्नपूर्णा मंदिर, नन्दी मंदिर और त्र्यंबकेश्वर मंदिर शामिल हैं। हिंदू धर्मग्रंथों में अविमुक्त क्षेत्र का उल्लेख एक पवित्र तीर्थस्थल के रूप में किया गया है, जहां तीर्थयात्री अपने पापों को धोने और मोक्ष प्राप्त करने के लिए आते हैं। अविमुक्त क्षेत्र न केवल एक धार्मिक स्थल है, बल्कि एक जीवंत शहर भी है जो अपनी समृद्ध संस्कृति, कला और परंपराओं के लिए जाना जाता है। यह शहर विभिन्न धर्मों, भाषाओं और संस्कृतियों का संगम है। अविमुक्त क्षेत्र में गंगा नदी के किनारे कई घाट हैं, जहां लोग **स्नान करते हैं, प्रार्थना करते हैं और मृतकों का अंतिम संस्कार करते हैं। अविमुक्त क्षेत्र एक ऐसा शहर है जो आध्यात्मिकता, संस्कृति और इतिहास का अद्भुत मिश्रण प्रस्तुत करता है।

Advertisement

आनंद कानन, वाराणसी का एक प्राचीन नाम है, जो शहर के शांत और आध्यात्मिक वातावरण का प्रतीक है। यह नाम हिंदू धर्म के ग्रंथों में मिलता है, जहां काशी को "आनंद कानन" या "आनंद का वन" बताया गया है। कहा जाता है कि भगवान शिव ने काशी को अपना निवास स्थान बनाया और यहां गंगा नदी के तट पर विश्वनाथ ज्योतिर्लिंग की स्थापना की। आनंद कानन में कई प्राचीन मंदिर हैं जो भगवान शिव को समर्पित हैं, जिनमें काशी विश्वनाथ मंदिर, अन्नपूर्णा मंदिर, नन्दी मंदिर और त्र्यंबकेश्वर मंदिर शामिल हैं। हिंदू धर्मग्रंथों में आनंद कानन का उल्लेख एक पवित्र तीर्थस्थल के रूप में किया गया है, जहां तीर्थयात्री अपने पापों को धोने और मोक्ष प्राप्त करने के लिए आते हैं। आनंद कानन न केवल एक धार्मिक स्थल है, बल्कि एक जीवंत शहर भी है जो अपनी समृद्ध संस्कृति, कला और परंपराओं के लिए जाना जाता है। यह शहर विभिन्न धर्मों, भाषाओं और संस्कृतियों का संगम है। आनंद कानन में गंगा नदी के किनारे कई घाट हैं, जहां लोग **स्नान करते हैं, प्रार्थना करते हैं और मृतकों का अंतिम संस्कार करते हैं। आनंद कानन एक ऐसा शहर है जो आध्यात्मिकता, संस्कृति और इतिहास का अद्भुत मिश्रण प्रस्तुत करता है।

महाश्मशान, वाराणसी का एक प्राचीन नाम है, जो शहर के प्रसिद्ध अंतिम संस्कार घाटों का प्रतीक है। यह नाम हिंदू धर्म के ग्रंथों में मिलता है, जहां काशी को "महाश्मशान" या "महान श्मशान भूमि" बताया गया है। महाश्मशान में कई प्रसिद्ध घाट हैं, जिनमें मणिकर्णिका घाट, दशाश्वमेध घाट और असी घाट शामिल हैं। हिंदू धर्म में, महाश्मशान को एक पवित्र स्थान माना जाता है, जहां मृतकों का अंतिम संस्कार किया जाता है। कहा जाता है कि गंगा नदी में स्नान करने और महाश्मशान में अंतिम संस्कार करने से पापों का नाश होता है और मोक्ष प्राप्त होता है। महाश्मशान न केवल एक धार्मिक स्थल है, बल्कि एक जीवंत स्थान भी है, जहां अंतिम संस्कार की प्रथा देखी जा सकती है। यह एक अनोखा अनुभव है जो जीवन और मृत्यु के चक्र को दर्शाता है। महाश्मशान में कई साधु और योगी रहते हैं जो ध्यान और आध्यात्मिक अभ्यास करते हैं। यह एक शांत और आध्यात्मिक वातावरण है जो मन को शांति प्रदान करता है। महाश्मशान एक ऐसा स्थान है जो जीवन, मृत्यु, धर्म और आध्यात्मिकता का अद्भुत मिश्रण प्रस्तुत करता है।

Advertisement

रुद्रावास नाम, "भगवान रुद्र का निवास" दर्शाता है, जो इस शहर के भगवान शिव के साथ प्राचीन और गहरे संबंध को उजागर करता है। भगवान शिव, हिंदू धर्म में विनाश और सृजन के देवता के रूप में पूजनीय हैं, और उनका शहर के इतिहास और संस्कृति में महत्वपूर्ण स्थान रहा है। यह माना जाता है कि भगवान शिव ने यहां तपस्या की थी, जिसके कारण इस स्थान को "रुद्रावास" नाम प्राप्त हुआ। यहाँ अनेक प्राचीन मंदिर और धार्मिक स्थल हैं जो भगवान शिव को समर्पित हैं, जो इस दावे को मजबूती प्रदान करते हैं। रुद्रावास के निवासी भगवान शिव के प्रति गहरी श्रद्धा रखते हैं और शिवरात्रि, महाशिवरात्रि और अन्य त्योहारों को बड़े उत्साह के साथ मनाते हैं। यह शहर, भगवान शिव के भक्तों के लिए तीर्थयात्रा स्थल के रूप में भी जाना जाता है, जो यहाँ आकर आध्यात्मिक शांति और आशीर्वाद प्राप्त करते हैं। रुद्रावास, भगवान शिव के अनुयायियों के लिए एक महत्वपूर्ण स्थान होने के साथ-साथ, धार्मिक पर्यटन और सांस्कृतिक विरासत के लिए भी जाना जाता है।

"काशिका" का नाम, पवित्र शहर काशी का एक प्राचीन और प्रसिद्ध नाम है। यह संस्कृत भाषा से व्युत्पन्न है, जिसका अर्थ है "प्रकाशमान" या "चमकदार"। यह नाम काशी की आध्यात्मिक और सांस्कृतिक महत्ता को दर्शाता है, जिसे ज्ञान और मोक्ष का प्रकाश स्तंभ माना जाता है। काशी, हिंदू धर्म के सात सबसे पवित्र शहरों में से एक है, और इसका इतिहास हजारों साल पुराना है। काशी को भगवान शिव का निवास स्थान माना जाता है, और यहाँ अनेक प्राचीन मंदिर और धार्मिक स्थल हैं जो भगवान शिव और अन्य देवी-देवताओं को समर्पित हैं। "काशिका" नाम का उल्लेख अनेक प्राचीन ग्रंथों और पुराणों में मिलता है। ऋग्वेद में, काशी को "विश्वनाभि" के रूप में वर्णित किया गया है, जो ब्रह्मांड का केंद्र है। महाभारत में, काशी को "मोक्षदायिनी" के रूप में जाना जाता है, जिसका अर्थ है "मोक्ष प्रदान करने वाली"। काशी सदियों से शिक्षा का केंद्र रहा है। यहाँ अनेक प्रसिद्ध विश्वविद्यालय और शिक्षण संस्थान स्थापित किए गए थे, जहाँ छात्र विभिन्न विषयों का अध्ययन करने आते थे। काशी को "ज्ञान की नगरी" के रूप में भी जाना जाता है। आज भी, "काशिका" नाम काशी की पहचान का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। यह शहर अपनी समृद्ध संस्कृति, आध्यात्मिकता और ज्ञान के लिए जाना जाता है, और यह दुनिया भर से तीर्थयात्रियों और पर्यटकों को आकर्षित करता है।

"तपस्थली" शब्द का अर्थ है "तपस्या का स्थान", जो इस शहर के धार्मिक महत्व को दर्शाता है। प्राचीन काल से, यह शहर तपस्वियों और साधुओं के लिए एक महत्वपूर्ण स्थान रहा है जो आध्यात्मिक ज्ञान और मोक्ष की प्राप्ति के लिए यहाँ आते थे। यहाँ अनेक शांत और एकांत स्थान हैं जहाँ तपस्वी ध्यान, योग और मंत्रों का जाप करते थे। इन तपस्वियों की तपस्या और त्याग ने इस शहर को पवित्र बना दिया है और इसे आध्यात्मिक ऊर्जा का केंद्र बना दिया है। "तपस्थली" में अनेक प्राचीन मंदिर और धार्मिक स्थल भी हैं जो विभिन्न देवी-देवताओं को समर्पित हैं। इन मंदिरों में श्रद्धालु दर्शन करने और पूजा-अर्चना करने आते हैं। यह शहर धार्मिक उत्सवों और तीर्थयात्राओं के लिए भी प्रसिद्ध है। हर साल, हजारों श्रद्धालु यहाँ आते हैं और आध्यात्मिक शांति और आशीर्वाद प्राप्त करते हैं। "तपस्थली" केवल एक शहर नहीं है, बल्कि यह एक ऐसा स्थान है जहाँ लोग आध्यात्मिकता का अनुभव कर सकते हैं और जीवन के सच्चे अर्थ को समझ सकते हैं। यह धार्मिक आस्था और आध्यात्मिक उन्नति के लिए एक महत्वपूर्ण केंद्र है।

"मुक्तिभूमी" नाम, इस शहर के धार्मिक और आध्यात्मिक महत्व को दर्शाता है। इसका अर्थ "मुक्ति की भूमि" होता है, जो दर्शाता है कि यह स्थान लोगों को मोक्ष प्राप्त करने में मदद करता है। हिंदू धर्म में, मोक्ष जीवन का अंतिम लक्ष्य माना जाता है, जो जन्म और मृत्यु के चक्र से मुक्ति दिलाता है। "मुक्तिभूमी" को ऐसा माना जाता है जहाँ लोग आध्यात्मिक ज्ञान प्राप्त कर सकते हैं और मोक्ष की प्राप्ति कर सकते हैं। यहाँ अनेक प्राचीन मंदिर और धार्मिक स्थल हैं जो विभिन्न देवी-देवताओं को समर्पित हैं। इन मंदिरों में श्रद्धालु दर्शन करने और पूजा-अर्चना करने आते हैं। इस शहर में अनेक धार्मिक गुरुओं और संतों ने जन्म लिया है जिन्होंने लोगों को आध्यात्मिकता का मार्ग दिखाया है। इन संतों की शिक्षाओं ने "मुक्तिभूमी" को आध्यात्मिक ज्ञान और प्रेरणा का केंद्र बना दिया है। "मुक्तिभूमी" केवल एक भौगोलिक स्थान नहीं है, बल्कि यह एक ऐसा स्थान है जहाँ लोग आध्यात्मिक शांति और मोक्ष प्राप्त कर सकते हैं। यह आस्था और आध्यात्मिक उन्नति के लिए एक महत्वपूर्ण केंद्र है। यहाँ आने वाले लोग अपने पापों से मुक्ति प्राप्त करते हैं और जीवन का सच्चा अर्थ समझते हैं। "मुक्तिभूमी" उन सभी लोगों के लिए एक प्रेरणा है जो जीवन में सच्चा सुख और शांति चाहते हैं।

Advertisement
Tags :
Advertisement