For the best experience, open
https://m.grehlakshmi.com
on your mobile browser.

क्या आप जानते हैं हर नए सामान पर स्वास्तिक क्यों बनाया जाता है? जानें इससे जुड़ी कई बातें: Swastik Astro Remedies

06:00 AM Jun 22, 2024 IST | Ayushi Jain
क्या आप जानते हैं हर नए सामान पर स्वास्तिक क्यों बनाया जाता है  जानें इससे जुड़ी कई बातें  swastik astro remedies
Swastik Astro Remedies
Advertisement

Swastik Astro Remedies: भारतीय संस्कृति और परंपराओं में, नई वस्तुओं को घर लाने पर उन पर स्वास्तिक बनाना एक सर्वविदित प्रथा है। यह सरल चार-भुजाओं वाला प्रतीक सदियों से शुभता, समृद्धि और सकारात्मक ऊर्जा का प्रतीक माना जाता है। नई कार, फ्रिज, टीवी या रोजमर्रा की वस्तुओं, जैसे अलमारी पर भी, स्वास्तिक बनाना एक आम दृश्य है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि नई वस्तुओं पर स्वास्तिक बनाने के पीछे क्या रहस्य छिपा है? आइए, धार्मिक महत्व और वैज्ञानिक दृष्टिकोण से इस परंपरा को गहराई से समझें।

Also read: घर के मेन गेट पर स्वास्तिक बनाने से पहले जान लें ये जरूरी बातें, ऐसे में मिलेगा शुभ लाभ: Swastik Vastu Tips

धर्म और आस्था का संगम

हिंदू धर्म में, स्वास्तिक को भगवान गणेश का प्रतीक माना जाता है। भगवान गणेश विघ्नहर्ता और बुद्धि के देवता हैं। नई वस्तु पर स्वास्तिक बनाना इस बात का प्रतीक है कि हम भगवान गणेश का आशीर्वाद प्राप्त कर रहे हैं। ऐसा माना जाता है कि स्वास्तिक उस वस्तु में विराजमान होकर उसे किसी भी बाधा से बचाता है और उसके उपयोग में सफलता प्रदान करता है।

Advertisement

इसके अतिरिक्त, स्वास्तिक को देवी लक्ष्मी का भी प्रतीक माना जाता है, जो धन और समृद्धि की देवी हैं। नई वस्तु पर स्वास्तिक बनाने से उसमें सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है और यह माना जाता है कि उस वस्तु से जुड़े कार्यों में समृद्धि आती है। हिंदू धर्म में, स्वास्तिक को नकारात्मक ऊर्जाओं को दूर करने वाला प्रतीक भी माना जाता है। नई वस्तु पर स्वास्तिक बनाकर यह सुनिश्चित किया जाता है कि उस वस्तु में हमेशा सकारात्मकता बनी रहे।

  1. शुभता और समृद्धि का प्रतीक: स्वास्तिक को शुभता और समृद्धि का प्रतीक माना जाता है। नई वस्तु पर स्वास्तिक बनाकर, लोग उस वस्तु को सकारात्मक ऊर्जा से भरने और उसमें निवास करने वाले देवताओं का आशीर्वाद प्राप्त करने की कामना करते हैं।
  2. नकारात्मकता का नाश: हिन्दू धर्म में, स्वास्तिक को बुरी शक्तियों और नकारात्मक ऊर्जाओं को दूर करने वाला प्रतीक माना जाता है। नई वस्तु पर स्वास्तिक बनाकर, लोग उस वस्तु को नकारात्मक प्रभावों से बचाने और उसमें सकारात्मकता बनाए रखने की आशा करते हैं।
  3. गणेश जी का प्रतीक: कुछ लोगों का मानना है कि स्वास्तिक भगवान गणेश का प्रतीक है, जो बुद्धि और विघ्नहर्ता के देवता हैं। नई वस्तु पर स्वास्तिक बनाकर, लोग भगवान गणेश से प्रार्थना करते हैं कि वे उस वस्तु के उपयोग में सफलता प्रदान करें और किसी भी बाधा को दूर करें।
  4. सूर्य देव का प्रतीक: स्वास्तिक को सूर्य देव का प्रतीक भी माना जाता है। नई वस्तु पर स्वास्तिक बनाकर, लोग सूर्य देव से प्रार्थना करते हैं कि वे उस वस्तु को प्रकाश और ऊर्जा प्रदान करें और उसमें सकारात्मकता बनाए रखें।
  5. स्वागत का प्रतीक: नई वस्तु पर स्वास्तिक बनाकर, लोग उस वस्तु का अपने घर में स्वागत करते हैं और उसे परिवार का हिस्सा मानते हैं।

भारतीय संस्कृति में स्वास्तिक का प्रतीक सदियों से शुभता, समृद्धि और सकारात्मकता का पर्याय रहा है। घरों की दीवारों से लेकर नई वस्तुओं तक, स्वास्तिक का निर्माण एक व्यापक परंपरा है। पर क्या आप जानते हैं इस सरल से दिखने वाले प्रतीक को बनाने में कौन-सी सामग्री शुभ मानी जाती है? सामग्री का चुनाव न केवल परंपरा का हिस्सा है, बल्कि उससे जुड़े धार्मिक महत्व को भी दर्शाता है। आइए जानें स्वास्तिक बनाने के लिए उपयोग की जाने वाली कुछ प्रमुख शुभ सामग्रियों के बारे में।

Advertisement

हल्दी: हल्दी को औषधीय गुणों के साथ-साथ शुभता और सौभाग्य का प्रतीक माना जाता है। नई गाड़ी, फ्रिज या किसी अन्य नई वस्तु पर स्वास्तिक बनाने के लिए हल्दी का लेप अत्यंत शुभ माना जाता है।

कुमकुम: हिंदू धर्म में कुमकुम को मंगल और सौभाग्य का प्रतीक माना जाता है। त्योहारों, शुभ अवसरों और पूजा-पाठ में स्वास्तिक बनाने के लिए कुमकुम का प्रयोग किया जाता है। इसकी लाल चमक सकारात्मक ऊर्जा का संचार करती है।

Advertisement

सिंदूर: सुहाग का प्रतीक, सिंदूर का उपयोग विवाहित महिलाएं अक्सर अपने घरों और मंदिरों में स्वास्तिक बनाने के लिए करती हैं। यह न केवल परंपरा का हिस्सा है, बल्कि सौभाग्य और मंगल का आह्वान भी माना जाता है।

Advertisement
Tags :
Advertisement