For the best experience, open
https://m.grehlakshmi.com
on your mobile browser.

दुआ - कहानियां जो राह दिखाएं

09:00 PM Jul 03, 2024 IST | Reena Yadav
दुआ    कहानियां जो राह दिखाएं
Duaa
Advertisement

Hindi Story: मिश्रा जी के दोस्त ने जैसे ही उनके हाथ में लड्डुओं का डिब्बा देखा तो झट से बोल पड़ा कि आज सुबह-सुबह किस खुशी में लड्डू बांटे जा रहे हैं? मिश्रा जी ने अपने दोस्त को बताया कि ऊपर वाले की दुआ से आज मेरे घर तीन बेटियों के बाद बेटा पैदा हुआ है।

दोस्त ने मजाक करते हुए कहा कि वैसे आपके ऊपर रहता कौन है? मिश्रा जी ने गंभीर होते हुए कहा कि मैं अपने ऊपर नहीं सारी दुनिया के ऊपर रहने वाले मालिक की बात कर रहा हूं। इस दुनिया में जो काम धन-दौलत और ताकत के बल पर नहीं किये जा सकते, उसे वो मालिक एक दुआ के कबूल होते ही कर देता है। मिश्रा जी के दोस्त ने अपने मजाकिया स्वभाव के अनुसार अपनी बात आगे बढ़ाते हुए कहा कि आपकी इस दुआ वाली बात से एक बहुत ही मजेदार किस्सा याद आ गया। आपको भी याद होगा कि फिल्मी जगत के इतिहास में आज तक की सबसे लोकप्रिय फिल्म शोले का एक डॉयलाग बहुत ही मशहूर हुआ था कि तेरा क्या होगा कालिया? मजाक करने वाले कहते हैं कि कालिया ने गब्बर से कहा था कि सरदार दुआ करो कि मेरे घर लड़का हो जाये।

बात किसी मजाक की हो या कठिन परिस्थितियों की, एक जनसाधारण से लेकर बड़ी से बड़ी हस्ती के जीवन में एक बात समान रूप से सामने आती है कि जब भी जिंदगी के किसी मोड़ पर बुरे वक्त से सामना होता है तो उस समय हमारी जीवन नैया बीच भंवर में हिचकोले खाने लगती है। दुनिया में बार-बार अपनों से धोखा खाने के बाद जब इंसान का सब कुछ लुट जाता है उस समय वो खुद को अकेला और असहाय महसूस करने लगता है। सभी संसाधन होते हुए भी इंसान कभी कहीं सूखे और कभी अधिक बरसात के कारण बाढ़ जैसे हालात के सामने जिंदगी की जंग हारने लगता है। हंसी-खुशी में तो हर कोई एक-दूसरे का साथ निभाने का दिखावा कर लेता है, लेकिन परेशानी के वक्त जब पैसा, ताकत, दोस्त, यार सभी हमारा साथ छोड़ कर हमसे दूर भागने लगते हैं तो उस समय चारों ओर हमें अंधकार ही अंधकार दिखाई देता है। ऐसे में जब कहीं से मदद की कोई किरण नजर नहीं आती उस समय इंसान घबरा कर दुआओं का सहारा लेता है। सच्चे मन से निकली हुई दुआ रोशनी की उस किरण की तरह होती है जो एक ही पल में अंधकार को चीर कर चारों ओर उजाला फैला देती है। आये दिन हम देखते हैं कि चाहे हमारे किसी नेता का चुनाव हो या करोड़ों रुपये की लागत से बनी किसी बड़े हीरो की फिल्म बाजार में आ रही हो, हर कोई कामयाबी की मंजिल को पाने के लिये सभी दुनिया सहारे छोड़ कर भगवान के चरणों में दुआ करते ही दिखाई देते हैं।

Advertisement

बात घर के किसी सदस्य की रोजी-रोटी कमाने के लिये परदेस में जाने की हो या बेटी की जुदाई की। घर में जब कभी भी शादी-विवाह का मौका होता है तो हर कोई खुशी से झूमता नजर आता है, लेकिन इतनी सारी खुशियों के बावजूद बेटी के मां-बाप को चाहें कितना भी ढाढ़स बंधा लो, परंतु उनकी आंखों में से आंसू रुकने का नाम नहीं लेते। हर मां-बाप का अपनी बेटियों को नाजों से पाल-पोस कर बड़ा करते हुए यही एक सपना होता है कि उनकी नाजुक-सी बेटी को ससुराल में सदा ठंडी छांव नसीब हो और कभी भी कोई कष्ट उसके नजदीक न आने पाये। समय के साथ एक दिन खुद ही अपने कलेजे की प्यारी बेटी को जब भावुक विदाई की बेला के समय डोली में बिठाते हैं तो उस समय उनकी फूट-फूट कर रोती हुई आंखों से एक मात्र यही दुआ निकलती है कि भगवान ससुराल में इसे इतनी खुशियां देना कि इसको अपने भाई-बहन और मायका तक भी याद न आये। परंतु लाखों-करोड़ों रुपये खर्च करने के बाद भी हर मां-बाप के मन में यही डर रहता है कि न जाने आज के बाद ससुराल में हमारी बेटी का नसीब कैसा होगा, ससुराल वाले हमारी बेटी से कैसा व्यवहार करेंगे? बेटी को भी एक ओर जहां अपने नये जीवनसाथी के मिलने की खुशी होती है वहीं दिल के किसी कोने में यह दर्द छलक रहा होता है कि न जाने कल की सुबह उसे किस्मत के किस मोड़ पर ले जायेगी। इसलिये शायद घर का हर सदस्य जुदाई के इस मौके पर रोते हुए अपनी बहन-बेटियों को आशीर्वाद देते हुए यही दुआ करता है कि जिस भी घर से भगवान ने उनकी बेटी का भाग्य जोड़ा है वो वहां पर सदा खुश रहते हुए राज कर सके।

सभी साहसी कर्मियों का मानना है कि बात चाहे एवरेस्ट पर्वत पर चढ़ने की की जाये या समुद्री लहरों के नीचे मौजूद दुनिया के रहस्य को खोजने की, जब तक अपने प्रियजनों की दुआ आपके साथ नहीं होती आप केवल अच्छे ज्ञान एवं तकनीक के सहारे अपनी मंजिल के शिखर पर नहीं पहुंच सकते। इतिहास भी इस बात को झुठला नहीं सकता कि चाहे कोई तन से, चाहे कोई मन से दुःखी हो, जीवन से जुड़े हर पहलू में आम इंसान से लेकर राजे-महाराजाओं ने दूसरे सभी विकल्पों को छोड़ कर सिर्फ दुआ की पतवार से ही अपनी जीवन नैया को पार लगाया है। आजकल न जाने जमाने की हवा कैसी होती जा रही है कि लोग अपने दुःखों से कम और दूसरों के सुखों से अधिक दुःखी होते हुए दुआ से अधिक बद्दुआ को अहमियत देने लगे हैं। अपने सुखों के लिये तो हर कोई ईश्वर से दुआ मांगता है, एक बार कभी किसी दूसरे के लिये दुआ मांग कर देखो, फिर आप पायेंगे कि भगवान किस कदर आपकी झोली खुशियों से भर देता है।

Advertisement

भगवान की उपासना में अटूट विश्वास रखने वाले ज्ञानियों का मानना है कि सांसारिक सुख तो पैसे से खरीदे जा सकते हैं परंतु मन की आस्था पूरी तरह से निजी मामला है और हर कोई अपने इष्टदेव तक केवल दुआ के माध्यम से ही पहुंच सकता है। हमें अपनी कमियों को छिपाने और बुरे कर्मों के लिये किस्मत को दोष देने की बजाय सच्चे मन से दुआ करने की आदत डालनी चाहिये, इससे हर किसी की किस्मत खुद ही संवरने लगती है। सच्चे दिल से दुआ करने वालों के हर कष्ट को मिटाने के लिये परमात्मा खुद ऐसे इंसान के पिता, गुरु और मार्गदर्शक बन जाते हैं कि फिर उस व्यक्ति को दुनिया में किसी से डरने की जरूरत नहीं होती। नेकदिल इंसान पूजा-पाठ और आराधना के बल पर उदासी, परेशानी को अपनी दासी बना कर रखते हैं और उसे कभी भी अपने चेहरे पर नहीं आने देते। सारे देश में अमन-चैन की दुआ करते हुए जौली अंकल इतना ही कहते हैं कि : दुआ दिल से करो, सदा ही कबूल होती है, लेकिन मुष्किल यह है कि यह बड़ी मुष्किल से होती है।

Advertisement
Advertisement
Tags :
Advertisement