For the best experience, open
https://m.grehlakshmi.com
on your mobile browser.

घायल पंछी - 21 श्रेष्ठ बालमन की कहानियां हिमाचल प्रदेश

07:00 PM Jul 06, 2024 IST | Reena Yadav
घायल पंछी   21 श्रेष्ठ बालमन की कहानियां हिमाचल प्रदेश
ghaayal panchhee
Advertisement

भारत कथा माला

उन अनाम वैरागी-मिरासी व भांड नाम से जाने जाने वाले लोक गायकों, घुमक्कड़  साधुओं  और हमारे समाज परिवार के अनेक पुरखों को जिनकी बदौलत ये अनमोल कथाएँ पीढ़ी दर पीढ़ी होती हुई हम तक पहुँची हैं

चिंटू की दादी जानकी धार्मिक विचारों वाली महिला थी। सुबह जल्दी उठकर, घर के कामों को निपटाकर, आंगन के एक छोर पर बने चबूतरे पर लगी तुलसी को जल चढ़ाती। सूर्यदेव को अर्घ देती और नित्य गीता के श्लोक पढ़ती थी। चिंटू को धार्मिक कथाएं सुनाती, अच्छी-अच्छी बातें बतातीं। चिंटू भी दादी मां का साथ पाकर बहुत खुश होता था। चौथी कक्षा का छात्र चिंटू जब एक दिन विद्यालय से घर की ओर आ रहा था तो अचानक पेड़ से किसी पंछी के नीचे गिरने की आवाज आई। यह एक उल्लू था जिसको दो कौवों ने घायल कर दिया था।

उसकी गर्दन पर एक घाव हो गया था जिससे खून रिसने लगा था। चिंटू के पास आते ही घायल उल्लू ने उड़ने की नाकाम कोशिश की। पर पंख टूट जाने के कारण वह उड़ नहीं पाया। चिंटू को उसकी हालत पर तरस आ रहा था। वह सोचने लगा कि उसे अगर यहीं छोड़ दिया तो बिल्ली या कुत्ते का ग्रास बन जाएगा। मगर घर ले जाए तो कैसे?

Advertisement

दादी मां से एक दिन जब अशुभ बातों के बारे में सुना था तो उसमें उल्लू या चमगादड़ का घर में प्रवेश भी अशुभ बताया था। चिंटू ने कुछ दिन पहले कक्षा में घायल पक्षी की कहानी सुनी थी जिसको सिद्धार्थ ने बचाया था। बस फिर क्या था! चिंटू ने उल्लू को अपने थैले में डाला और घर के लिए यह सोच कर चल दिया कि किसी को खबर तक नहीं होने देगा।

चिंटू ने चुपके से घायल पक्षी को अपने कमरे में लाकर अपनी चारपाई के नीचे बांस की टोकरी से छिपा दिया।

Advertisement

एक पुरानी कटोरी में पानी और अनाज के कुछ दाने भी ले आया। मगर घायल पंछी ने खाने की तरफ ध्यान तक नहीं दिया। उसकी घायल गर्दन के लिए चिंटू ने हल्दी का लेप भी तैयार कर लिया था। बिल्कुल वैसे ही जैसे कुछ दिन पहले दादी मां ने उसे चोट लग जाने पर लगाया था। चिंटू घायल पंछी का ध्यान रखने लगा। पंछी भी अब पहले से बेहतर स्थिति में आ गया था।

चिंटू को डर बस इस बात का था कि जब दादी मां को पता चलेगा, तब न जाने क्या होगा।

Advertisement

एक दिन विद्यालय से लौटते वक्त जब चिंटू अपने कमरे में पंछी को देखने के लिए चारपाई के नीचे घुसा तो पाया कि न तो वहां बांस की टोकरी थी और न ही घायल उल्लू।

“हे भगवान। अब क्या होगा?” चिंटू के मुंह से अनायास ही निकल गया।

दादी मां को आवाज लगाता हुआ चिंटू आंगन की तरफ दौड़ा। दादी मां को छत पर देख कर चिंटू फुर्ती से सीढ़ियां चढ़कर उनके पास पहुंच गया।

“दादी मां। मुझे माफ कर दो। मैंने आप से यह बात छुपा कर रखी थी। मुझे माफ कर दो।” चिंटू रूआंसा हो गया।

“अरे! इसमें माफी मांगने वाली कौन-सी बात है? तुमने तो घायल पक्षी को बचाकर बहुत ही नेक काम किया है। शाबाश मेरे बेटे।”

चिंटू को दादी मां ने गले से लगा लिया।

“मैं कल ही भोलू को बोलकर इसके लिए एक अच्छा-सा पिंजरा बनवा दूंगी।”

“शुक्रिया दादी मां। मेरी प्यारी दादी मां।”

भारत की आजादी के 75 वर्ष (अमृत महोत्सव) पूर्ण होने पर डायमंड बुक्स द्वारा ‘भारत कथा मालाभारत की आजादी के 75 वर्ष (अमृत महोत्सव) पूर्ण होने पर डायमंड बुक्स द्वारा ‘भारत कथा माला’ का अद्भुत प्रकाशन।’

Advertisement
Advertisement