For the best experience, open
https://m.grehlakshmi.com
on your mobile browser.

कर्बला - मुंशी प्रेमचंद -18

08:00 PM Jan 08, 2024 IST | Reena Yadav
कर्बला   मुंशी प्रेमचंद  18
Karbala novel by Munshi Premchand
Advertisement

छठा दृश्य: [प्रातः काल। शाम का लश्कर। हुर और साद घोड़ों पर सवार फ़ौज का मुआयना कर हैं।]

हुर – अभी तक जियाद ने आपके खत का जबान नहीं दिया?

साद – उसके इंतजार में रात-भर आंखें नहीं लगीं। जब किसी की आहट मिलती थी, तो गुमान होता था कि कासिद है। मुझे तो यकीन है कि अमीर जियाद मेरी तजबीब मंजूर कर लेंगे।

Advertisement

हुर – काश ऐसा होता! अगर जंग की नौबत आई, तो फौज़ के कितने ही सिपाही लड़ने से इनकार कर देंगे।

[सामने से शिमर घोड़ा दौड़ाता हुआ आता है।]

Advertisement

साद – लो, कासिद भी आ गया। खुदा करे, अच्छी खबर लाया हो। अरे, यह तो शिमर है।

हुर – हां, शिमर ही है। खुदा खैर करे, जब यह खुद जियाद के पास गया था, तो मुझे आपकी तजबीब के मंजूर होने से बहुत शक है।

Advertisement

शिमर – (करीब आकर) अस्सलामअलेक। मैं कल एक जरूरत से मकान चला गया। अमीर जियाद को खबर हो गई। उसने मुझे बुलाया, और आपको यह खत दिया।

[खत साद को देता है। साद खत पढ़कर जेब में रख लेता है, और एक लंबी सांस लेता है।]

साद – शिमर, मैंने समझा था, तुम सुलह की खबर लाते होंगे।

शिमर – आपकी समझ की गलती थी। आपको मालूम है कि अमीर जियाद एक बार फैसला करके फिर उसे नहीं बदलते। अब आपकी क्या मंशा है?

साद – मजबूर हुक्म की तामील करूंगा।

शिमर – तो मैं, फौज़ों को तैयार होने का हुक्म देता हूं?

साद – जैसा मुनासिब समझा।

(शिमर फौज़ की तरफ़ चला जाता है।)

हुर – खुदा सब कुछ करें, इंसान का बातिन स्याह न बनाए।

साद – यह सब इन्हीं हजरत की कारगुजारी है। जियाद मेरी तरफ़ से कभी इतने बदनुमान न थे।

हुर – मुझे तो फ़र्जन्हें रसूल से लड़ने के खयाल ही से दहशत होती है।

साद – हुर, तुम सच कहते हो। मुझे यकीन है कि उनसे जो लड़ेगा, उसकी जगह जहन्नुम में है। मगर मजबूर हूं, ‘रै’ की परवा न करूं, तो भी घर की तरफ़ से बेफ़िक्र तो नहीं हो सकता। अफ़सोस, मैं हविस के हाथों तबाह हुआ। काश मेरा दिल इतना मजबूत होता कि ‘रै’ की निजामत पर लटू न हो जाता, तो आज मैं फ़र्जन्हें रसूल के मुकाबले पर न खड़ा होता। हुर, क्या इस जंग के बाद किसी तरह मगफिरत हो सकती?

हुर – फ़र्ज़न्दे-रसूल के खून का दाग कैसे धुलेगा?

साद – हुर, मैं इतने रोजे रखूगा कि मेरा जिस्म घुल जाये, इतनी नमाजें अदा करूंगा कि आज तक किसी ने न की होंगी। ‘रै’ को सारी आमदनी खैरात कर दूंगा। पियादा पा हज करूंगा और रसूल पाक की कब्र पर बैठकर रोऊंगा, गुनहगारों की खताएं मुआफ करूंगा, और एक चींटी को भी ईजा न पहुंचाऊंगा। हाय! जालिम शिमर सोचने का मौका भी नहीं देना चाहता। फौजें तैयार हो रही है। कीस, हज्जाज, शीश, अशअस अपने-अपने आदमियों को सफ़ों में खड़े करने लगे। वह लो, नक्कारे पर चोट भी पड़ गई।

हुर – मैं भी जाता हूं, अपने आदमियों को संभालूं।

[आहिस्ता-आहिस्ता जाता है।]

साद – ऐ खुदा! बहुत बेहतर होता कि तूने मुझे शिमर की तरह स्याह बातिन बनाया होता, या हानी और क़सीर का-सा दिल दिया होता कि अपने को गैर पर कुर्बान कर देता। कमजोर इंसान भी जानता है कि मुझे क्या करना चाहिए, और क्या नहीं कर सकता। वह गुलाम से भी बदतर है, जिसका अपनी मर्जी पर कोई अधिकार नहीं। मेरे कबीलेवालों ने भी सफ़बंदी शुरू कर दी। मुझे भी अब जाकर अपनी जगह पर सबसे आगे चलना चाहिए और वही करना चाहिए, जो शिमर कराए, क्योंकि अब मैं फ़ौज़ का सरदार नहीं हूं, शिमर है।

[आहिस्ता-आहिस्ता जाकर फ़ौज के सामने खड़ा हो जाता है।]

शिमर – (उच्च स्वर से) ऐ खिलाफत को जिंदा रखने के लिए अपने तई कुरबान करने वाले। बहादुरों, खुदा का नाम लेकर कदम आगे बढ़ाओं। दुश्मन तुम्हारे सामने है। वह हमारे रसूल पाक का नवासा है, और उस रिश्ते से हम सब ताजीम से उसके आगे सिर झुकाते हैं। लेकिन जो आदमी हिर्स का इतना बंदा है कि रसूल पाक के हुक्म का, जो उन्होंने खिलाफ़त को अब तक कायम रखने के लिए दिया था, पैरों-तले कुचलता है, और जो क़ौम की बैयत की परवा न करके अपने विरासत के हक़ के लिए खिलाफ़त को खाक में मिला देना चाहे, वह रसूल का नवासा होते हुए भी मुसलमान नहीं है। हमारी निगाहों में रसूल के हुक्म ही इज्जत उसके नवासे की इज्जत से कहीं ज्यादा है। हमारा फर्ज है कि हमने जिस खलीफ़ा की बैयत कबूल की है, उसे ऐसे हमलों से बचाएं, जो हिर्स को पूरा करने के लिए दाद के नाम पर किए जाते हैं। चलो, फर्ज के मैदान में कदम बढ़ाओं।

[नश्कारे पर चौब पड़ती है, और पूरा लश्कर हुसैन के पड़ाव की तरफ बढ़ता है। साद आगे कदम बढ़ाता हुआ हुसैन के खेमे के करीब पहुंच जाता है।]

अब्बास – (हुसैन के खेमे से निकलकर) साद! यह दगा! हम तुम्हारे जवाब का इंतजार कर रहे हैं, और तुम हमारे ऊपर हमला कर रहे हो? क्या यही आईने-जंग है?

साद – हज़रत, कलाम पाक की कसम, मैं दगा के इरादे से नहीं आया। (जियाद का खत अब्बास के हाथ में देकर) यह देखिए, और मेरे साथ इंसाफ कीजिए। मैं इस वक्त नाम के लिए फौज का सरदार हूं, अख्तियार शिमर के हाथों में है।

अब्बास – (खत पढ़कर) आखिर तुम दुनिया की तरफ झुके। याद रखो, खुदा की दरगाह में शिमर नहीं, तुम खतावार समझे जाओगे।

साद – या हजरत, यह जानता हूं पर जियाद के गुस्से का मुकाबला नहीं कर सकता। वह बिल्ला है, मैं चूहा हूं; वह बाज है, मैं कबूतर हूं। वह एक इशारे से मेरे खानदान का निशान मिटा सकता है। अपनी हिफ़ाजत की फिक्र ने मुझे मजबूर कर दिया है, मेरे दीन और ईमान को फ़ना कर दिया है।

अब्बास – खुलासा यह है कि तुम हमारा मुहासिरा करना चाहते हो। ठहरो, मैं जाकर भाई साहब को इत्तिला दे दूं।

[अब्बास हुसैन के खेमे की तरफ़ जाते हैं।]

शिमर – (साद के पास आकर) क्या अब कोई दूसरी चाल चलने की सोच रहे हैं?

साद – नहीं, हजरत हुसैन को हमारी आमद और मंशा की इत्तिला देने गए हैं।

शिमर – यह मौके को हमारे हाथों से छीनने का हीला है। शायद कबीलों से इमदाद तलब करने का कस्द कर रहे हैं। एक दिन की देर भी उन्हें मौके का बादशाह बना सकती है।

[अब्बास खेमे से वापस आते हैं।]

अब्बास – मैंने हजरत हुसैन को तुम्हारा पैगाम दिया। हज़रत को इसका बेहद सदमा है कि उनकी कोई शर्त मंजूर नहीं की गई। सुलह की इससे ज्यादा कोशिश उनके इमकान में न थी। गो हम सब जंग के लिये तैयार है, लेकिन उन्होंने एक दिन की मुहलत मांगी है कि दुआ और नमाज में गुजारें। सुबह को हमें खुदा का जो हुक्म होगा, उसकी तामील करेंगे।

साद – इसका जवाब मैं अपनी फ़ौज के दूसरे सरदारों से मशविरा करके दूंगा।

[अब्बास अपने खेमों की तरफ़ जाते हैं, और हुर, हज्जाज, अशअस, कीस सब साद के पास आकर खड़े हो जाते हैं।]

साद – शिमर, तुम्हारी इस मामले में क्या सलाह है?

शिमर – यह उनकी हीलेबाजी है। आइंदा आप अमीर हैं, जो जी चाहे, करें।

साद – (दूसरे सरदारों से मुखातिब होकर) हजरत हुसैन ने एक दिन की मुहलत की दरख्वास्त की है, आप लोगों की क्या सलाह है? । शिमर – इसका आप लोग खयाल रखिएगा कि यह मुहलत आफ़त के मीजान को पलट सकती है।

हुर – मुहलत के मंजूर करने में पसोपेश का कोई मौका नहीं।

हज्जाज – हुसैन अगर काफ़िर होते, और मुहल्लत की दरख्वास्त करते, तो भी उसको कबूल करना लाजिम था।

कीस – बहुत मुमकिन है, वह कल तक आपस में सलाह करके यजीद की बैयत कबूल कर ले, तो नाहक खूरेजी क्यों हो।

शिमर – और अगर शाम तक बनी, असद और दूसरे कबीले उनकी मदद के लिए आ जायें, तो?

शीश – हजरत हुसैन ने अभी तक किसी कबीले से इमदाद नहीं तलब की है, वरना हम इतने इत्मीनान से यहां न खड़े होते।

साद – बनी और असद ही नहीं, अगर ईराक के सारे कबीलें आ जायें, तब भी हम आज उन्हें जंग के लिए मजबूर नहीं कर सकते। यह इंसानियत के खिलाफ़ है। मेरा यही फैसला है। आइंदा आप लोगों को आख्तियार है।

[साद गुस्से में भरा हुआ वहां से चला जाता है।]

शिमर – क्या आप लोगों की यही मर्जी है कि आज जंग मुल्तवी की जाय?

हुर – यहां जितने असहाय मौजूद है, सब अपनी राएं दे चुके, अमीरे-लश्कर भी चला गया। ऐसी हालात में मुहलत के सिवा और हो ही क्या सकता है। अगर आप अपनी जिम्मेदारी पर जंग करना चाहते हैं, तो शौक से कीजिए।

[हुर, हज्जाज वगैरह भी चले जाते हैं।]

शिमर – (दिल में) कौन कहता है कि हुसैन के साथ दगा की गई? यहां सब-के-सब के दोस्त हैं। इस फौज में रहने से कहीं यह बेहतर था कि सब के सब हुसैन की फौज में होते। तब भी उनकी इतनी मदद न कर सकते। मुझे जरा ताज्जुब न होगा, अगर कल सब लोग हथियार रखकर हुसैन के कदमों पर गिर पड़े। जियाद को इस मुहलत की भी इत्तिला तो दे ही दूं।

[साद का क़ासिद मुहलत का पैगाम लेकर हुसैन के लश्कर की तरफ़ जाता है। शिमर अपने खेमे की तरफ़ जाती है।]

सातवाँ दृश्य: [समय 8 बजे रात। हुसैन एक कुर्सी पर मैदान में बैठे हुए हैं। उनके दोस्त और अजीज सब फर्श पर बैठे हुए हैं। शमा जल रही है।]

हुसैन – शुक्र है, खुदाए-पाक का, जिसने हमें ईमान की रोशनी अता की, ताकि हम नेक को कबूल करें, और बद से बचें। मेरे सामने इस वक्त मेरे बेटे और भतीजे, भाई और भांजे, दोस्त और रफ़ीक सब जमा हैं। मैं सबके लिए खुदा से दुआ करता हूं। मुझे इसका फख्र है कि उसने मुझे ऐसे सआदतमंद अजीज और ऐसे जाँ निसार दोस्त अता किए। अपनी दोस्ती का हक पूरी तरह अदा कर दिया, आपने साबित कर दिया कि हक़ के सामने आप जान और माल की कोई हक़ीकत नहीं समझते। इस्लाम की तारीख में आपका नाम हमेशा रोशन रहेगा। मेरा दिल खयाल से पाश-पाश हुआ जाता है कि कल मेरे बायस वे लोग, जिन्हें जिंदा हिम्मत चाहिए, जिनका हक है जिंदा रहना, जिनको अभी जिंदगी में बहुत कुछ करना बाकी है, शहीद हो जायेंगे। मुझे सच्ची खुशी होगी, अगर तुम लोग मेरे दिल का यह बोझ हल्का कर दोगे। मैं बड़ी खुशी से हरएक को इजाजत देता हूं कि उसका जहां जो चाहे, चला जाये। मेरा किसी पर कोई हक नहीं है। नहीं मैं तुमसे इल्तमास करता हूं, इसे कबूल करो। तुमसे किसी को दुश्मनी नहीं हुई है, जहां जाओगे, लोग तुम्हारी इज्जत करेंगे। तुम जिंदा शहीद हो जाओगे, जो मरकर शहादत का दर्जा पाने से इज्जत की बात नहीं। दुश्मन को सिर्फ मेरे खून की प्यास है, मैं ही उसके रास्ते का पत्थर हूं। अगर हक़ और इंसाफ को सिर्फ मेरे खून से आसूदगी हो जाये, तो उसके लिए और खून क्यों बहाया जाये? साद से एक शव की मुहलत मांगने में यही मेरा खयाल था। यह देखो में यह शमा ठंडी किए देता हूं, जिसमें किसी को हिजाब न हो।

[सब लोग रोने लगते हैं, और कोई अपनी जगह से नहीं हिलता।]

अब्बास – या हजरत, अगर आप हमें मारकर भगाएं, तो भी हम नहीं जा सकते। खुदा वह दिन न दिखाए कि हम आपसे जुदा हों। आपकी सफलता के साए में पल-भर अब हम सोच ही नहीं सकते कि आपके बगैर हम क्या करेंगे, कैसे रहेंगे।

अली अकबर – अब्बाजान, यह आप क्या फरमाते हैं? हम आपके कदमों पर निसार होने के लिये आए है। आपको यहां तनहा छोड़कर जाना तो क्या, महज उसके खयाल से रूह को नफ़रत होती है।

हबीब – खुदा की कसम, आपको उस वक्त तक नहीं छोड़ सकते, जब तक दुश्मनों के सीने में अपनी तेज बर्छियां न चुभा लें। अगर मेरे पास तलवार भी न होती, तो मैं आपकी हिमायत पत्थरों से करता।

अब्दुल्लाह कलवी – अगर मुझे इसका यकीन हो जाये कि मैं आपकी हिमायत में जिंदा जलाया जाऊंगा और फिर जिंदा होकर जलाया जाऊंगा, और यह अमल सत्तर बार होता रहेगा, तो भी मैं आपसे जुदा नहीं हो सकता। आपके कदमों पर निसार होने से जो रुतबा हासिल होगा, वह ऐसी-ऐसी बेशुमार जिंदगियों से भी नहीं हासिल हो सकता।

जहीर – हज़रत, आपने जबाने-मुबारक से ये बातें निकालकर मेरी जितनी दिलशिकनी की है, उसका काफी इजहार नहीं कर सकता। अगर हमारे दिल दुनिया की हविस से मगलूब भी हो जायें, तो हमारे किसी दूसरी तरफ जाने से गुरेज करेंगे। क्या आप हमें दुनिया में रूहस्याह और बेगैरत बनाकर जिंदा रखना चाहते हैं?

अली असगर – आप तो मुझे शरीक किए बगैर कभी कोई चीज न खाते थे, क्या जन्नत के मजे अकेले उठाइएगा? शमा जलवा दीजिए, हमें इस तरीकी में आप नज़र नहीं आते।

हुसैन – आह! काश रसूले-पाक आज जिंदा होते और देखते कि उनकी औलाद और उनकी उम्मत हक़ पर कितने शौक से फ़िदा होती है। खुदा से मेरी यही इल्तजा है कि इस्लाम में हक़ पर शहीद होने वालों की कभी-कमी न रहे। असगर, बेटा जाओ, तुम्हारे बाप की जान तुम पर फिदा हो, हम-तुम साथ-साथ जन्नत के मेवे खायेंगे। दोस्तों, आओ, नमाज पढ़ लें। शायद यह हमारी आखिरी नमाज हो।

[सब लोग नमाज पढ़ने लगते हैं।]

Advertisement
Tags :
Advertisement