For the best experience, open
https://m.grehlakshmi.com
on your mobile browser.

जानिए कैसा हो गर्मियों में भोजन: Summer Foods

09:30 AM Jun 27, 2024 IST | Srishti Mishra
जानिए कैसा हो गर्मियों में भोजन  summer foods
summer foods
Advertisement

Summer Foods: चिलचिलाती गर्मियां आते ही स्वास्थ्य तुरंत प्रभावित होता है। तो ऐसे में गॢमयों में कैसा हो आपका खानपान, इसके लिए कुछ टिप्स- गर्मियों में लू, डीहाइड्रेशन, फूड पॉइजनिंग, लिवर की कमजोरी और पेट सम्बंधी समस्याएं बढ़ जाती हैं। डॉक्टर्स और न्यूट्रीशनिस्ट की मानें तो ज्यादा से ज्यादा पेय पदार्थ या पानी का सेवन डीहाइड्रेशन से बचाने में सक्षम है। भीषण गर्मियों में स्वस्थ रहने के लिए खान-पान सम्बंधित भोजन व पेय पदार्थों को शामिल करने या छोड़ने की सलाह दी जाती है, जिससे पेट भी सही रहे और गर्मियों की विभिन्न बीमारियों से भी बचाव किया जा सके। गर्मियों में खान-पान की इन आदतों को शामिल करके आप गर्मी को मात दे सकते हैं।

Also read:काम ऊर्जा के लिए आहार: Energy Boosting Foods

तरबूज जितना टेस्टी होता है, उतना ही
गर्मियों के लिए ये रामबाण है। इसमें 90 प्रतिशत पानी होता है और बहुत कम कैलोरी होती है, जिसकी वजह से यह गर्मी में शरीर में पानी की मात्रा सही रखने के लिए पहला विकल्प बन जाता है। गर्मियों में तरबूज का सेवन या उसका ताजा जूस काफी लाभकारी है।

Advertisement

यह गर्मी के मौसम में ताज़गी प्रदान करने वाला स्वादिष्ट और बेस्ट सूप है। काली मिर्च, टमाटर और खीरा जैसी स्वास्थ्यवर्धक सामग्रियों से तैयार यह सूप बेहद हल्का होने के साथ-साथ अपनी एंटी-ऑक्सीडेंट खूबियों के लिए जाना जाता है। लाइकोपेन और विटामिन सी से भरपूर गैज़्पाचो में एंटी-एजिंग खूबियां भी होती हैं।

यह मोनो अनसैचुरेटेड फैट का शानदार स्रोत है और दिल की अच्छी सेहत के लिए इसका सेवन करने की सलाह दी जाती है। गर्मियों में इसे खाने के कई फायदे मिलते हैं।

Advertisement

यह बेहद ताजगी भरा हर्ब है, जो कई रूपों में खाया जाता है। दही में मिलाकर रायता या चटनी भी बनाई जा सकती है। पुदीने की पत्तियों में प्रचुर मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट और फाइटोन्यूट्रिएंट होते हैं, जो पाचन में मदद करते हैं और पेट को ठंडक पहुंचाते हैं। इसके अलावा पुदीना बेहतरीन एपेटाइजर
यानी भूख बढ़ाने वाले और स्वाद ग्रंथि को साफ करने वाले तत्व के रूप में भी काम करता है।

बिना मक्खन और नमक के भुट्टा उच्च फाइबर और लो-कैलोरी फूड है, जो पाचन को भी सुधारता है। गर्मियों के लिए ये एक अच्छा स्नैक्स है।

Advertisement

हरी सब्जियों में पर्याप्त मात्रा में पानी होता है। इन्हें खाने का सबसे सही समय तब है, जब सब्जियां हरी, ताजी और नरम हों। विटामिन, मिनरल और डायटरी फाइबर से भरपूर होने के चलते सब्जियां पाचन में मदद करती हैं और साथ ही फूले हुए पेट और लिवर की कमजोरी को भी दूर करने में मददगार होती हैं।

फल के बहुत फायदे हैं। वजन कम करने की कोशिश कर रहे लोगों के लिए गर्मियां सबसे शानदार मौसम हैं। ऐसे में गर्मियों में फलों का सेवन हितकारी है। फल डायटरी फाइबर, एंटीऑक्सीडेंट, विटामिन और मिनरल का शानदार स्रोत होते हैं, इसलिए गर्मी को मात देने के लिए फलों का सलाद खाएं।

गॢमयों में खान-पान के दौरान हम अक्सर ऐसी चीजें खा-पी लेते हैं, जो उस वक्त तो हमें बहुत अच्छी लगती हैं, लेकिन उसका नुकसान जल्दी ही हमें देखने को मिलता है। ऐसे ही कुछ खान-पान की चीजें हैं-

चीनी और कैलोरी से भरे स्पोर्ट्स ड्रिंक आपको कुछ पल का सुकून तो दे सकते हैं, लेकिन इनसे आपको उम्मीद से कहीं ज्यादा नुकसान हो सकता है। इनमें ज्यादा सोडियम, आर्टिफिशियल फ्लेवर और खाने वाला रंग मिला होता है, जिनसे एलर्जिक रिएक्शन, हाइपरएक्टिविटी, बच्चों में आईक्यू में कमी और कई तरह के कैंसर जैसे खतरे होते हैं। इसके अतिरिक्त इनमें बहुत ज्यादा मात्रा में सिट्रिक एसिड होता है, जो हमारे दांतों के इनेमल को भी खराब करता है।

फ्रेंच फ्राइज, बर्गर, पेटीज, समोसे, पापड़ पकोड़ों में ट्रांस फैट और नमक बहुत ज्यादा होता है। तला खाना शरीर को गर्म करके पाचन को खराब करते हैं। साथ ही गर्मियों में इनकी वजह से फूड पॉइजनिंग का खतरा भी रहता है। तला हुआ खाना त्वचा को और ज्यादा तैलीय बना सकता है। गर्मी में इन्हें संभालना मुश्किल हो जाता है।

कॉफी में कैफीन और डाई-यूरेटिक गुण होते हैं। एक गिलास कोल्ड कॉफी आपके पाचन तंत्र को बिगाड़ने, पेट में गैस बनने और अपच का कारण बन सकती है। यह एलडीएल कोलेस्ट्रॉल का स्तर भी बढाती है और इससे अनिद्रा और थकान भी हो सकती है। ऐसे में कोल्ड कॉफी की जगह लस्सी ज्यादा बेहतर विकल्प है।

गर्मियों में इन्हें पचाना मुश्किल होता है और इनमें बहुत गरमी भी होती है, जो शरीर के लिए सही नहीं है। इसकी वजह से अत्यधिक पसीना आना और पाचन की समस्या हो सकती है। करी, क्रीम वाले चिकन, मीट और मछली का सेवन कम करें।

टेस्टी लगने के बावजूद आइसक्रीम और कोल्ड ड्रिंक दोनों शरीर को गर्म करने वाले होते हैं। इनसे बचें।
(हेल्थियंस की सीनियर न्यूट्रिशनिस्ट सौम्या शताक्षी से बातचीत पर आधारित।)

यह प्रोबायोटिक का सर्वश्रेष्ठ स्रोत है। दही में ठंडक होती है और इसे ऐसे लोग भी खा सकते हैं, जिन्हें लैक्टोज (दुग्ध पदार्थ) नहीं पचता है। इसमें कैल्शियम और प्रोटीन प्रचुर मात्रा में होता है। नियमित रूप से दही का सेवन दिल की बीमारियों के खतरे को भी कम करता है। गर्मियों में यह रामबाण है।

इसमें 95 प्रतिशत पानी होता है, जो आपके शरीर में पानी कम नहीं होने देता। साथ ही इसमें कैलोरी और वसा कम होती है। इसके अलावा विटामिन, फोलेट और पोटेशियम की प्रचुर मात्रा होती है। यह वजन कम करने, मेटाबॉलिज्म और प्रतिरक्षा प्रणाली को सुधारने में मदद करता है।

शरीर को पानी की कमी से बचाने के लिए नारियल पानी प्यास बुझाने वाला सर्वश्रेष्ठ प्राकृतिक पेय है, जो त्वचा में चमक लाता है और इसमें जिंक, मैग्नीशियम, कैल्शियम, पोटेशियम, सोडियम जैसे मिनरल भी पर्याप्त मात्रा में होते हैं। नारियल पानी में कैंसर रोधी और एंटी-एजिंग खूबियां भी होती हैं।

Advertisement
Tags :
Advertisement