For the best experience, open
https://m.grehlakshmi.com
on your mobile browser.

जीवन में भूल हो जाए तो याद रखें ये क्षमायाचना मंत्र, जानिए इसका महत्व: Kshama Yachana Mantra

जाने अनजाने में हुई भूलों के लिए व्यक्ति को रोज भगवान के सामने क्षमायाचना मंत्र का जाप करना चाहिए। इस मंत्र का जाप करने से भगवान व्यक्ति की गलतियों को माफ कर उसे सदबुद्धि प्रदान करते हैं।
06:00 AM May 25, 2023 IST | Naveen Parmuwal
जीवन में भूल हो जाए तो याद रखें ये क्षमायाचना मंत्र  जानिए इसका महत्व  kshama yachana mantra
Advertisement

Kshama Yachana Mantra: सनातन संस्कृति में विधि विधान से देवी देवताओं की पूजा अर्चना की जाती है। शास्त्रों में बताया गया है कि देवी देवताओं की पूजा अर्चना करते समय मंत्रों का उच्चारण करना बेहद फलदायी होता है। मंत्रों के जाप करने से पूजा का विशेष फल प्राप्त होता है। ऐसा ही एक मंत्र है क्षमायाचना मंत्र। पूजा पाठ या फिर जीवन में जाने अनजाने में हुई भूल के प्रति क्षमा मांगने के लिए इस मंत्र का जाप किया जाता है।

शास्त्रों में बताया गया है कि जिस प्रकार हम भगवान की प्रार्थना, पूजा, ध्यान और भगवान को भोग लगाते समय कुछ विशेष मंत्रों का जाप करते हैं, उसी प्रकार पूजा में और जीवन में हुई भूल की क्षमा मांगने के लिए क्षमायाचना मंत्र का जाप किया जाता है। इस मंत्र का जाप करने से पूजा पाठ, यज्ञ, हवन और हमारे द्वारा हुई किसी भी तरह की भूल का दोष नहीं लगता है और साथ ही इस मंत्र के प्रभाव से भगवान उस गलती के लिए क्षमा प्रदान करते हैं। आज इस लेख के द्वारा हम जानेंगे कि क्षमायाचना मंत्र क्या होता है और क्षमायाचना मंत्र का महत्व क्या है।

क्षमायाचना मंत्र का अर्थ

Kshama Yachana Mantra
Kshama Yachana Mantra Meaning

धर्मग्रंथों के अनुसार, क्षमा याचना मंत्र से हम भगवान से अपनी गलतियों की क्षमा मांगते हैं। शास्त्रों में "आवाहनं न जानामि न जानामि विसर्जनम्। पूजां चैव न जानामि क्षमस्व परमेश्वर। मंत्रहीनं क्रियाहीनं भक्तिहीनं जनार्दन। यत्पूजितं मया देव। परिपूर्ण तदस्तु मे।" मंत्र के द्वारा क्षमा मांगी जाती है। इस मंत्र का अर्थ है कि "हे भगवान मैं मन से आपको बुलाना चाहता हूं, लेकिन मुझे आपको बुलाना नहीं आता और न ही मुझे विधि विधान से आपको विदा करना आता है।

Advertisement

मुझे आपकी पूजा करनी भी नहीं आती। मुझे मंत्रों के जाप का ज्ञान भी नहीं है और मैं क्रिया करना भी नहीं जानता हूं। इसीलिए हे भगवान मैं अपनी बुद्धि और विवेक से यथासंभव आपकी पूजा अर्चना कर रहा हूं, इसलिए कृपा करके मेरी भूल को क्षमा कर दें और मेरे मन के अहंकार को दूर करें। मैं आपका भक्त हूं, इसलिए आपकी भक्ति करना चाहता हूं लेकिन मेरी भक्ति में हुई भूल के लिए मुझे क्षमा कर दें, मैं आपकी शरण में हूं।" भगवान की पूजा अर्चना के बाद अपनी भूल की क्षमा मांगने के लिए इस मंत्र का जाप जरूर करना चाहिए।

क्षमा याचना मंत्र का महत्व

Kshama Yachana
Importance of Kshama Yachana Mantra

धर्मग्रंथों के अनुसार, सृष्टि के प्रतेक जीव में भगवान का अंश है। इसलिए जब भी हम किसी का अपमान करते है या कोई गलती करते हैं तो इसका सीधा अर्थ होता है कि हमने भगवान का अपमान किया है और भगवान से जुड़े कार्यों में गलती की है। इसीलिए क्षमायाचना मंत्र के द्वारा हम अपनी गलतियों के लिए माफी मांगते हैं। माफी मांगने से व्यक्ति का अहंकार दूर होता है और उसे सदबुद्धि प्राप्त होती है। क्षमा मांगने से व्यक्ति का स्वभाव सरल और सौम्य बनता है। व्यक्ति के व्यवहार में विनम्रता आती है। रोज हमारे द्वारा की जाने वाली गलतियों के लिए माफी मांगने पर रिश्तों में प्रेम और सहयोग की भावना बनी रहती है।

Advertisement

यह भी पढ़ें: दक्षिण दिशा में कौनसी वस्तुएं रखना होता है अशुभ, जानें वास्तु के सही नियम: South Direction Vastu

Advertisement
Advertisement
Tags :
Advertisement