For the best experience, open
https://m.grehlakshmi.com
on your mobile browser.

शादी के बाद लड़की के जीवन में आते हैं ये 9 बड़े बदलाव: Life Changes After Marriage

12:00 PM Dec 07, 2023 IST | Nisha Singh
शादी के बाद लड़की के जीवन में आते हैं ये 9 बड़े बदलाव  life changes after marriage
Life Changes After Marriage
Advertisement

Life Changes After Marriage: शादी किसी के जीवन का बहुत बड़ा फैसला होता है। ये वो फैसला है जो जीवन में सुखद बदलाव के साथ बहुत सी जिम्‍मेदारियां भी लाता है। लड़का हो या लड़की शादी के बाद दोनों के जीवन में अचानक से बड़ा बदलाव आ जाता है। मगर ये कहना गलत नहीं होगा कि लड़की के जीवन पर लड़के की तुलना में कहीं ज्यादा फर्क पड़ता है। जिसकी शुरुआत अपना घर छोड़कर नये घर और नये लोगों के साथ रहने से होती है। कई बार तो उसे अपना शहर तक छोड़ना पड़ता है।

शादी के बाद एक लड़की सिर्फ बेटी या बहन नहीं होती, बल्कि एक पत्नी, बहू, मां और एक गृहणी भी होती है। कुल मिलाकर ये कहना गलत नहीं होगा कि शादी के बाद एक लड़की की जिंदगी पूरी तरह से बदल जाती है। शादी के पहले मायके में बेफिक्र रहने वाली लड़की ससुराल में पहुंचकर अचानक से जिम्मेदारियां संभालने का प्रयास करती है। उसकी प्राथमिकताएं और रहन-सहन सबकुछ बदल जाता है। आइए आपको बताते हैं कि लड़की के जीवन में शादी के बाद आने वाले दस ऐसे बदलावों के बारे में जो उसके पूरे जीवन पर अपना गहरा असर छोड़ते हैं।

Read Also: शादी से पहले जरूरी है काउंसिलिंग

Advertisement

1)वह अधिक जिम्मेदार बन जाती हैं

Life Changes After Marriage
Girl's Life After Marriage

शादी के बाद एक महिला जो मायके में बेफिक्री से जीती है उसके ऊपर पति और ससुराल वालों की जरूरतों को संभालने की जिम्‍मेदारी होती है। वो पहले की तरह घूमने-फिरने के लिए आजाद नहीं र‍हती, न दोस्तों के साथ देर रात पार्टी कर सकती है क्‍योंकि उसे घर की सारी जिम्‍मेदारियां संभालनी होती हैं। शादी के बाद वो इस बदलाव को आसानी से स्वीकार कर पाए या न कर पाए लेकिन इसकी शिकायत किसी से नहीं करती। अपने ऊपर आई जिम्‍मेदारियों को वो पूरी इमानदारी से निभाने की कोशिश में लग जाती हैं। यही वजह है शादी के बाद अक्सर लड़कियां खुद-ब-खुद पहले से कहीं ज्यादा जिम्मेदार और समझदार बन जाती हैं।

2) प्राथमिकताएं बदल जाती हैं

शादी के बाद एक लड़की के जीवन में सबसे बड़े बदलावों में से ये एक है। अपने करियर को बनाने के लिए जी जान से मेहनत करने वाली लड़की के लिए शादी के बाद प्राथमिकता अपने आप बदल जाती है। नई जगह में नये लोगों के साथ तालमेल बैठाने, घर को संभालने और ससुराल वालों की अपेक्षाओं को पूरा करने में उसका करिअर पीछे छूट जाता है। वहीं एक मां बनने के बाद तो एक महिला के लिए बच्‍चे और परिवार ही पहली प्राथमिकता बन जाती है।

Advertisement

3) पहनावे में बदलाव आ जाता है

शादी के बाद एक महिला को ज्यादातर अपने ससुराल की सोच के हिसाब से पहनावे को अपनाना पड़ता है। अगर ससुराल के लोग रूढ़िवादी हैं तो उसे उनकी पसंद के ही कपड़े पहनने पड़ते हैं। अगर कोई वेस्‍टर्न कपड़े पहनने वाली लड़की है तो वो अपनी पसंद के कपड़े नहीं पहन सकती हैं। उसका पहनावा पूरी तरह बदल जाता है।

4) पहले की तुलना में धैर्य बढ़ जाता है

शादी से पहले एक लड़की बिना सोचे समझे अपने परिवार वालों से किसी भी बात पर गुस्से में बात करती है, मन न हो तो काम करने से मना कर देती है। वहीं शादी के बाद ससुराल में उसका ये व्यवहार नहीं चल पाता क्योंकि उस पर परिवार को बांधकर रखने और दूसरों को समझने की जिम्मेदारी होती है। इसलिए शादी के बाद ज्यादातर लड़कियां पहले से कहीं ज्यादा धैर्यवान और समझदार हो जाती हैं।

Advertisement

5) फैसले लेने के तरीके में बदलाव

शादी से पहले कोई भी फैसला लेने से पहले कोई भी ज्‍यादा सोच विचार नहीं करता। किन दोस्तों के साथ घूमना है, कब काम करना है, कितनी देर टीवी देखना है वगैरह-वगैरह। यहां तक की कोई सामान लेने से पहले वे बहुत कम विचार विमर्श करती हैं। शादी के बाद महिला को फैसला लेने से पहले पति और ससुराल वालों की पसंद के बारे में सोचना पड़ता है इसलिए महिलाएं ज्यादातर निर्णय पति और ससुराल वालों को ध्‍यान में रखकर लेती हैं।

6) व्यक्तिगत समय नहीं बचता

शादी के बाद लड़की का सामाजिक दायरा बढ़ जाता है। कामकाजी महिला के लिए घर-परिवार के साथ नौकरी और जिम्‍मेदारियों को संभालने की वजह से खुद के लिए समय नहीं बचता। यदि महिला कामकाजी नहीं है, तो पति, ससुराल वालों, रिश्तेदारों व अन्य कामों की वजह से भी वे खुद को समय नहीं दे पातीं। बच्चे होने के बाद तो वे अपने खुद के समय के बारे में सोच ही नहीं पातीं।

7) सोच-समझकर बोलना पड़ता है

शादी से पहले एक लड़की किसी से भी बेझिझक कुछ भी कह देती है, अपनी राय देने से पहले सोचती नहीं है, यहां तक कि गलत बात पर भी बहस कर सकती है क्योंकि उससे जुड़े लोग उसे अच्‍छे से जानते और समझते हैं। शादी के बाद नये परिवार में उसे समझने के लिए कोई शायद ही प्रयास करता है। ऐसे में वो कुछ भी बोलने से पहले अपने शब्दों को सोच समझकर इस्‍तेमाल करने लगती हैं।

8) शारीरिक बदलाव

शादी के बाद ज्‍यादातर महिलाओं के शरीर में बदलाव देखने को मिलता है। उनका वजन पहले की तुलना में बढ़ जाता है। मां बनने के बाद तो ज्‍यादातर महिलाओं का वजन तेजी से बढ़ जाता है। खान-पान और हार्मोन्‍स में बदलाव के चलते उनका वजन बढ़ जाता है। यही नहीं खुद को समय न दे पाने की आदत की वजह से वे इसके प्रति कुछ करती भी नहीं हैं। कुछ समय बाद उनके लिए अपना पहले जैसा लुक पाना काफी मुश्किल हो जाता है।

9) अपनी पहचान खोना

शादी के पहले जहां एक लड़की की अपनी अलग पहचान होती है। वहीं शादी के बाद उसकी पहचान किसी की पत्‍नी, बहू और मां के रूप में सीमित होने लगती है। महिलाएं इस बात से अनभिज्ञ खुद को घर और परिवार के लोगों के साथ ही जोड़कर देखना शुरू कर देती हैं। वे गाना तो सुना ही होगा 'आपने किसी के इतने पास हैं कि खुद से दूर हो गए।' कई बार वे खुद की पसंद और नापसंद को छोड़ दूसरों के हिसाब से जीने लगती हैं। ऐसे में वे अपनी शख्सियत को बदल लेती हैं।

Advertisement
Tags :
Advertisement