For the best experience, open
https://m.grehlakshmi.com
on your mobile browser.

मकर राशिफल – Makar Rashifal 2024 - 16 June To 23 June

12:00 AM Jun 14, 2024 IST | Reena Yadav
मकर राशिफल – makar rashifal 2024   16 june to 23 june
Capricorn horoscope 2024
Advertisement

भो, जा, जी उत्तराषाढ़ा‒3

जू, जे, जो, खा अभिजित-4

खा खी, खू, खे, खो श्रवण‒4

Advertisement

गा, गी धनिष्ठा‒2


16 जून से 23 जून तक

दिनांक 16 को विजय सूचक समय रहेगा। शत्रु व विरोधी चाह कर भी कुछ कर नहीं पाएंगे। आपकी प्रतिभा खुलकर लोगों के सामने आएगी। आप 17, 18, 19 को आप अपने उसूलों व सिद्धान्तों के साथ किसी भी कीमत पर समझौता नहीं कर पाएंगे। पैसों की आवक बढ़ेगी। आप स्वयं में काम करने के लिए ऊर्जा को केन्द्रित करेंगे। नैतिकता व धर्म अध्यात्म की तरफ झुकाव रहेगा। यश, कीर्ति, पराक्रम बढ़ेगा। 20, 21 को बड़े- बड़े अधिकारियों से आपका सम्पर्क बढे़गा। किसी नवीन वस्तु की खरीददारी संभव है। श्री गणपति जी को आराध्य देव मानें सारे कार्य निर्विघ्न पूर्ण होंगे। 22, 23 को आर्थिक बजट गड़बड़ा सकता है। बात-बात पर शक करने की वजह से मित्र, पत्नी, बच्चे सभी आपसे दूरियां बना लेंगे।

Advertisement

ग्रह स्थिति

मासारम्भ में शनि कुम्भ राशि का द्वितीय भाव में, चन्द्रमा+मंगल+राहु मीन राशि का तृतीय भाव में, बृहस्पति+शुक्र+बुध+सूर्य वृषभ राशि का पंचम भाव में, केतु कन्या राशि का नवम भाव में चलायमान रहेंगे।

मकर राशि की शुभ-अशुभ तारीख़ें

2024शुभ तारीख़ेंसावधानी रखने योग्य अशुभ तारीख़ें
जनवरी7, 8, 9, 12, 13, 16, 171, 2, 10, 11, 18, 19, 20,
27, 28, 29
फरवरी4, 5, 9, 10, 12, 136, 7, 15, 16, 23, 24, 25
मार्च2, 3, 7, 8, 10, 11, 29,
30, 31
5, 13, 14, 22, 23, 24
अप्रैल3, 4, 7, 8, 25, 26, 271, 2, 9, 10, 18, 19, 20,
28, 29
मई1, 2, 4, 5, 23, 24,
28, 29
7, 8, 15, 16, 17. 26
जून1, 2, 19, 20, 24, 25,
28, 29
3, 4, 12, 13, 14, 22, 23,
30
जुलाई16, 17, 18, 21, 22, 23,
25, 26
1, 2, 9, 10, 11, 19, 20, 27,
28, 29
अगस्त13, 14, 18, 19, 21, 225, 6, 7, 16, 24, 25
सितम्बर9, 10, 14, 15, 18, 192, 3, 4, 12, 13, 20, 21,
29, 30
अक्टूबर6, 7, 8, 12, 13, 15, 161, 9, 10, 18, 19, 26, 27,
28
नवम्बर3, 4, 8, 9, 12, 13, 306, 14, 15, 22, 23, 24
दिसम्बर1, 5, 6, 9, 10, 27,
28, 29
3, 4, 12, 13, 20, 21, 22,
30, 31
मकर राशि की शुभ-अशुभ तारीख़ें

मकर राशि का वार्षिक भविष्यफल

Makar Rashifal 2024
मकर राशि

यह साल 2024 मकर राशि वालों के लिए चुनौतियों से परिपूर्ण रहेगा। मुश्किलें व परेशानियां तो आयेंगी परन्तु साथ ही साथ उसका हल भी मिल जायेगा। इस साल आपको शनि की साढेसाती

Advertisement

का प्रभाव रहेगा। अन्तिम चरण में साढेसाती से बनते कामों में अवरोध व रूकावटें आयेंगी। स्वास्थ्य के मामलों में पूरी सावधानी व सतर्कता बरतें। पुरानी बीमारी से कष्ट तो रहेगा, साथ ही नई बीमारी भी आपको परेशान कर सकती है। स्त्री जातकों को नसाें से सम्बन्धित रोग, हड्डियों की बीमारी, स्त्रीजनित रोगों से दिक्कत रहेगी, वहीं पुरुष जातकों को भी मांसपेशियों की बीमारी ऐलर्जी रोग, माइग्रेन जैसी बीमारिया परेशान करेंगी। इस वर्ष देवगुरु बृहस्पति 1 मई तक चौथे स्थान में, तथा 1 मई के बाद पांचवे स्थान में गोचरवश संक्रमण करेंगे। अतः माता का स्वास्थ्य कमजोर रहेगा। भूमि, भवन, वाहन आदि की खरीद में आपके साथ कोई चोट हो सकती है। कागजाद का अच्छी तरह परीक्षण कर लें। बिना पढ़े किसी भी कागजाद पर हस्ताक्षर नहीं करें।

इस वर्ष 1 मई तक देवगुरु बृहस्पति चौथे स्थान में स्थित है अतः माता का आशीर्वाद व स्नेह तो रहेगा परन्तु स्वास्थ्य का पाया कमजोर रहेगा। चन्द्रमा वर्षारंभ में आठवें स्थान में स्थित है। अतः पति-पत्नी में यदा-कदा वैचारिक मतभेद व गलतफहमियां उत्पन्न हो सकती हैं, लेकिन समय रहते उन गलत फहमियों का निराकरण भी हो जायेगा। इस वर्ष आप प्रचुर मात्र में मेहनत करेंगे, तथा मेहनत से धन भी कमायेंगे, व्यापार को दिन-प्रतिदिन और अधिक ऊंचाई प्रदान करने के लिए आप नवीन प्रयोग करेंगे, काफी हद तक उन प्रयोगों से लाभ मिलेगा, लेकिन पैसा पास में टिक पाने का योग कमजोर

ही है। खर्चा भी प्रचुर मात्र में होगा। नई तकनीक, नए हुनर व नया अनुभव अमल में लायेंगे परन्तु किसी न किसी कारण से व्यापार में अवरोध भी आयेंगे पेमेन्ट लटक जायेगा या आर्डर लम्बित होगा। सम्पति सम्बन्धी विवाद किसी तीसरे आदमी की मध्यस्यता से सुलझ जायेगा। भाईयों से विरोध गतिरोध रह सकता है। प्राईवेट जॉब या सरकारी नौकरी में कार्यरत व्यक्तियों को अपने काम को पूरी संजीदगी व गम्भीरता से अजांम देना चाहिए। आप किसी साजिश या षड़यंत्र के शिकार हो सकते हैं। रूपयों-पैसों के लेन-देन में सावधानी करते। वर्ष पर्यंत राहु महाराज तीसरे स्थान में गतिशील है अतः सम्पर्कों व सम्बन्धों का दायरा काफी विस्तृत रहेगा। लेकिन उनका लाभ आपको नहीं मिल पायेगा। बृहस्पति मई के पश्चात् पचंम स्थान में गोचरवश परिभ्रमण करेंगे अतः विद्यार्थीयों के लिए शुभ संकेतों का देने वाला रहेगा।

परिवार में माहौल थोड़ा तनावपूर्ण रहेगा। सम्पति संबन्धी व बंटवारे सम्बन्धी विवाद उलझ सकता है। कोर्ट-केस तक भी नौबत आ सकती हैं। आयकर सैल्स टैक्स, जी-एस-टी-, कस्टम, रायल्टी जैसी सरकारी पंगे हो सकते हैं। अतः उस तरफ से सावधान रहें। आप यह महसूस करेंगे। मुश्किल घड़ी में मित्र व परिवार के सदस्य आपकी हर संभव सहायता के लिए तत्पर रहेंगे। नौकरी में आगे बढ़ने के अवसर मिलेंगे जरूरत है उन अवसरों को लपक कर पकड़ने की। आप भी इस साल किसी रिश्तेदार या मुसीबत में फंसे मित्र की मदद के लिए हाथ बढ़ायेंगे।

शारीरिक सुख एवं स्वास्थ्यः- इस साल आपको पुराने रोग परेशान कर सकते पैरों का दर्द, पेट की तकलीफ जैसी परेशानियां रहेंगी। बृहस्पति 1 मई तक चौथे स्थान में है। सर्दी जनित रोग खांसी, बुखार, जुकाम जैसी मौसमी बीमारियां हावी हो सकती हैं। पुराना रोग ब्लड प्रशेर, ब्लड सुगर में पूरा सेहत का ध्यान रखें गम्भीर बीमारियों में भी लापरवाही नहीं करें, आशंका होते ही पूरी तरह से तुरंत परीक्षण करवावें। डाक्टर की सलाह के साथ-साथ समय पर औषधी सेवन का पूरा ध्यान रखें। 30 जून से 15 नवम्बर के मध्य शनि के वक्र काल में

घर किसी बुजुर्ग सदस्य का स्वास्थ्य गड़बड़ हो सकता हैं, तनाव को अपने ऊपर हावी नहीं होने दें, व्यायाम के साथ-साथ खान-पान का विशेष ध्यान रखें।

व्यापार, व्यवसाय व धनः- कार्यक्षेत्र में व्यापार में कोई खास उपलब्धि आपको इस साल हासिल नहीं हो पायेगी, बल्कि नित नई परेशानियां आयेगी काम-काज व व्यापार में ठोस निर्णय लेने की आवश्यकता है कुछ कठोर व कड़े फैसले लेने पड़ सकते हैं, भूमि, भवन, जायदाद सम्बन्धी विवाद उलझ सकता है। व्यापार व काम काज में जो विस्तार की योजना आपने बनाई है, उस पर बहुत ही धीमी गति से काम होगा। कोई आर्डर या पेमेण्ट अटक सकता है इस साल मकर राशि पर शनि की साढेसाती का प्रभाव है, अतः आर्थिक मामलों में किसी पर भी भरोसा या विश्वास नहीं करें आपका कोई अपना व्यक्ति ही आपकी पीठ में छुरा घाेंप सकता है। कर्मचारी व भागीदार की हर हरकत कार्यकलाप पर पैनी नजर रखें कोई विभागीय सूचना या बिजनेस सिक्रेट लीक हो सकते हैं। विदेश सम्बन्धी व्यापार में नफे के योग हैं। 30 जून से 15 नवम्बर के मध्य शनिवक्र स्थिति में चलायमान रहेगी। आर्थिक मामलें उलझ सकते हैं। आपका पैसा कहीं ऐसी जगह अटक जायेगा जिसे आप चाहकर भी निकलवा नहीं पायेंगे। व्यावसायिक प्रतिद्वन्दीयों व प्रतिस्थर्धीयों से आपको इस वर्ष कड़ी चुनौती मिल सकती है कोई मशीनरी व्यापार में खराब हो जायेगी जिसका सीधा प्रभाव आपके प्रोडेक्शन पर पड़ सकता है। नया आर्डर मिलेगा। नौकरी में दबाव काम का बना रहेगा।

घर, परिवार संतान व रिश्तेदारः- काम-काज की व्यस्तताओं के बीच व्यापार व परिवार का तालमेल गड़बड़ायेगा चन्द्रमा वर्षारंभ में छठे हैं। अतः पति-पत्नी में वैचारिक विरोध गतिरोध रहेगा। जीवनसाथी का स्वास्थ्य भी गड़बड़ ही रहेगा

घर में रोजमर्रा की छोटी-मोटी चीजों की खरीद आप कर सकते हैं संतान के कैरियर विद्याध्यन को लेकर चिंता रहेगी। जहां तक रिश्तेदारी का प्रश्न है, रिश्तेदार आपकी आलोचना या निंदा कर सकते हैं। रिश्तेदारों से कोई खास अपेक्षा नहीं की जा सकती। बहरहाल घर के बड़े-बुजुर्गों का स्नेह व आशीर्वाद

जरूर आपको इस साल प्राप्त होगा वह आशीर्वाद ही आपकी सबसे बड़ी ताकत बनेगा। जोश व उत्साह में कई बड़े व साहसिक काम आप कर जायेंगे। परिवार में गलतफहमियां उत्पन्न होंगी, लेकिन समय रहते उन गलत फहमियों का निराकरण हो जायेगा बटवारें व सम्पति से सम्बन्धित विवाद किसी वरिष्ठ व्यक्ति की मध्यस्थता से सुलझ जायेगा। बुजुर्गों के प्रति आपके मन में सेवा समर्पण का भाव रहेगा। रिश्तेदारों से खास सहयोग की अपेक्षा नहीं है।

विद्याध्यन, पढ़ाई व कैरियरः- मैनेजमेंट, इंजीनियरिंग, कम्प्यूटर तकनीकी शिक्षा से जुड़े विद्यार्थियों के लिए समय अच्छा रहेगा। दूसरे भाव में स्वगृही शनि कॉमर्स, आर्थिक, शिक्षा, व्यवस्थान से सम्बन्धित विद्यार्थियों को निरतंर सफलता प्रदान करायेगा। मेडिकल व लीगल सेक्टर से जुड़े विद्यार्थियों के लिए समय कोई खास बढ़िया नहीं रहेगा। 1 मई तक बृहस्पति चौथे भाव में गोचरवश परिभ्रमण करेंगे, जो कोई खास सफलता के योग नहीं दिखला रहे हैं। 1 मई के पश्चात् बृहस्पति पांचवें स्थान में गोचरवश आकर अध्ययनरत विद्यार्थियों को सफलता दिलायेगा। एकाग्रचित्तता बनेगी। विदेश में जाकर प्रयासरत विद्यार्थियों को कॉलेज में दाखिला बीजा से सम्बन्धित परेशानी आ सकती है। कैरियर में आप पूरी संजीदगी से तयशुदा लक्ष्यों को हासिल करेंगे, बॉस व अधिकारी आपके काम से खुश रहेंगे, आपको आगे बढ़ने के अवसर मिलेंगे। नौकरी में महत्वपूर्ण कार्यभार सौंपा जा सकता है प्रतियोगी परीक्षा, सरकारी नौकरी से सम्बन्धित परीक्षा, विभागीय परीक्षा का परिणाम अनुकुल आयेगा।

प्रेम-प्रसंग मित्रः- मित्रें का दायरा विस्तृत होगा, नए-नए मित्र बनेंगे वक्त बेवक्त मित्र काम भी आयेंगे। किसी जरूरतमंद मित्र की आर्थिक मदद आप कर सकते हैं। इस समय रुपयों पैसों मामले में किसी पर भी भरोसा नहीं करें। हालाकि मित्र आपको सहयोग नहीं करेंगे। प्रेम-प्रसंगो के प्रस्ताव इस साल मिलेंगे। प्रेम सम्बन्ध गोपनीय बने रहें, उसी में आपकी भलाई है, प्रेमी-प्रेमिका के बीच कभी कभार गलत फहमियां उत्पन्न हो सकती हैं, लेकिन जून के बाद गलत फहमियां समाप्त हो जायेंगी।

वाहन, खर्च व शुभकार्यः- इस वर्ष मंगल बारहवें स्थान में वर्षारंभ में स्थित है। अतः वाहन से कोई एक्सीडेंट हो सकता है वाहन द्वारा क्षति होने के योग है। वाहन सावध शनी पूर्वक चलायें। शनि की साढ़ेसाती नुकसान की कारक है। वाहन चलाते समय मोबाइल व शराब का सेवन नहीं करें तथा सीटबैल्ट, हैलमेट जैसे सुरक्षा नियमों का पालन करें। जहाँ तक खर्च का प्रश्न है इस वर्ष फालतू के खर्चों में इजाफा होगा। वाहन पर भी बार-बार खर्चा होगा। इस साल कोई अप्रत्याशित खर्चा हो सकता है। शुभ व मागंलिक कार्यों की संभावना न के बराबर है। फिजूल खर्चों पर नियत्रंण रखें। इस वर्ष 30 जून से 15 नवम्बर के मध्य संतान संबन्धित खर्च की स्थिति को रखेगा।

हानि कर्ज व अनहोनीः- जल्दबाजी में लिया गया निर्णय

धन हानि का कारण बन सकता है। आपके अपने लोग ही आपके साथ विश्वासघात कर सकते हैं। अगर आप राजकीय सेवा में है तो आपको ज्यादा सावधानी व सर्तकता रखनी चाहिए। आपके विरुद्ध कोई गुप्त योजना या षडयंत्र कारित हो सकता हैं। पैसा पास में आता-आता किसी न किसी कारण

रूक जायेगा। अपनी रोजमर्रा की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए आपको ऋण लेना पड़ सकता हैं, 30 जून से 15 नवम्बर के मध्य किसी अनहोनी या अप्रिय घटना का अंदेशा है संभावना है। किसी रिश्तेदार से सम्बन्धित कोई अप्रिय सूचना प्राप्त हो सकती है। वाहन सावधानी पूर्वक चलायें।

यात्रएंः- इस वर्ष मंगल+सूर्य वर्षारंभ में बारहवें है तथा

धन भाव में शनि की स्थिति है यात्रओं में धन खर्च होगा अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखें। खान-पान आदि का खास ख्याल रखें।

कोई आरोप-प्रत्यारोप आप पर लग सकता है।

कोई बड़ा ऑर्डर या बिग डील आपके हाथों से निकल सकती है। कोई आरोप-प्रत्यारोप आप पर लग सकता है। ऐसा कोई काम आपके हाथों से हो सकता है, जो कि कहीं न कहीं बदनामी व अपयश का कारण बनेगा।

मकर राशि की चारित्रिक विशेषताएं

मकर राशि का स्वामी शनि है। शनि प्रधान व्यक्ति मेहनत से नहीं घबराते हैं। मकर राशि के जातक व्यावहारिक (प्रैक्टिकल) तथा बलवान होते हैं, परंतु पैरों में कभी-कभार तकलीफ रहती है।
शनि पाप ग्रह है तथा उनका रंग काला है। इस राशि वाले व्यक्ति प्रायः काले, नाक चपटी, पैनी आंखें, शरीर से ये पतले, फुर्तीले तथा कुछ लम्बे कद के होते हैं। यह चर संज्ञक व पृथ्वी तत्त्व प्रधान राशि है। इसका प्राकृतिक भाव उच्च पदाभिलाषी प्रकृति की होती है। क्रोध इनको धीरे-धीरे आता है व शांत भी ये देरी से होते हैं। जहां ये अपना पक्ष कमजोर देखते हैं, वहां पर ये नम्र हो जाते हैं।
मकर राशि में उत्पन्न जातक शान्त तथा उदार प्रवृत्ति के होते हैं तथा अन्य जनों के प्रति उनके मन में प्रेम तथा सहानुभूति का भाव विद्यमान रहता है। इनके मुखमंडल पर विचारशीलता, शांति एवं गंभीरता सदैव बनी रहती है। ये अत्यंत ही कर्मशील एवं परिश्रमी होते हैं। फलतः सांसारिक महत्त्व के कार्यों को सम्पन्न करके उनमें सफलता अर्जित करते हैं। इनमें कार्य करने की क्षमता प्रबल होती है तथा यही इनकी सफलता का रहस्य होता है। समाज एवं देशसेवा के प्रति ये उद्यत रहते हैं। ये साहसी एवं संघर्षशील होते हैं तथापि मन में यदा-कदा उदासीनता के भाव उत्पन्न होते हैं, जिससे सुख-दुःख में समान भाव की अनुभूति करते हैं। परिश्रमी एवं अध्ययनशील होने के कारण ये अनुसंधान विज्ञान या शास्त्रीय विषयों का ज्ञान अर्जित करके एक विद्वान के रूप में सामाजिक पहचान प्राप्त करते हैं। आप स्वस्थ एवं बलशाली पुरुष होंगे। आप में आदर्शवादिता का भाव होगा तथा अपने आदर्शों पर चलने के लिए आप स्वतंत्र होंगे। देश-सेवा का भाव भी आप में विद्यमान रहेगा तथा शत्रु एवं प्रतिद्वन्द्वियों से भी उदारता का व्यवहार करेंगे। फलतः वे भी आपसे प्रभावित होंगे।
आप बुद्धिमत्तापूर्वक अपने कार्यकलापों को सम्पन्न करके धनैश्वर्य, वैभव एवं सुख अर्जित करेंगे। संगीत के प्रति आपकी विशेष रुचि रहेगी तथा इस क्षेत्र में परिश्रमपूर्वक कोई विशिष्ट उपलब्धि भी अर्जित कर सकते हैं। आप श्रेष्ठ कार्यों को करने में रुचि लेंगे तथा एक चतुर व्यक्ति के रूप में जाने जाएंगे। आपकी पुत्र संतति प्रसिद्ध रहेगी तथा उनसे आपको इच्छित सुख एवं सहयोग मिलता रहेगा।
पिता के प्रति आपके मन में पूर्ण सम्मान तथा आदर की भावना होगी तथा उनकी सेवा करने में हमेशा तत्पर रहेंगे। आपकी आर्थिक स्थिति भी सुदृढ़ होगी तथा प्रचुर मात्रा में धन एवं लाभ अर्जित करके एक धनवान के रूप में सामाजिक प्रतिष्ठा प्राप्त करेंगे। आप युवावस्था में संघर्षशील रहेंगे और वृद्धावस्था में सुख एवं शांति प्राप्त करेंगे।
धर्म में आस्था होने के कारण समयानुसार धार्मिक कार्यकलापों को भी सम्पन्न करेंगे। इससे आपको मानसिक शांति प्राप्त होगी। मित्र एवं बंधु वर्ग के आप प्रिय होंगे तथा इनसे आपको पूर्ण लाभ एवं सहयोग प्राप्त होगा। आप किसी बात पर निर्णय सोच-विचार कर धीरे-धीरे लेंगे। आप ऊंची-ऊंची योजनाएं बनाने में सदा तत्पर रहते हैं। कमाते बहुत हैं पर धन पास में टिकता नहीं, हर समय द्रव्य का अभाव महसूस करते हैं। पत्नी व आपके विचारों में असमानताएं, आपके वैवाहिक सुख को कटुतर बनाने में सहायक हैं। आपकी राशि का चिह्न ‘मगरमच्छ’ है। ‘मगरमच्छ के आंसू’ वाली कहावत लोक-प्रसिद्ध है। ऐसे व्यक्ति दीन स्वरूप व दयनीय स्थिति का बोध कराते हैं, लेकिन कपटी होते हैं। ये बहुभोगी व विषयवासना में आसक्त रहने वाले व्यक्ति होते हैं। भोजन के बाद शीघ्र आराम करने की इच्छा रहती है। ये कहते कुछ हैं व करते कुछ हैं।
यदि आपका जन्म मकर राशि के ‘उत्तराषाढ़ा नक्षत्र’ के (भो, जा, जी) चरणों में हुआ है, तो आपका जन्म 6 वर्ष की सूर्य की महादशा में हुआ है। आपकी योनि-नकुल, गण-मनुष्य, वर्ण-क्षत्रिय, हंसक-अग्नि, नाड़ी-अन्त्य, पाया-तांबा है। इस नक्षत्र का द्वितीय चरण का वर्ग-मूषक, अन्य दोनों चरणों का वर्ग-सिंह है। इस नक्षत्र में जन्मा जातक बहुत नम्र, बहुत मित्रों वाला, धार्मिक, कृतज्ञ, भाग्यशाली होता है। उत्तराषाढ़ा सूर्य का नक्षत्र है, जो कि चंद्रमा का मित्र है, इसलिए यह शुभ फल कहा जाता है।
यदि आपका जन्म मकर राशि के ‘श्रवण नक्षत्र’ (जू, जे, जो, खा) में हुआ है, तो आपका जन्म 10 वर्ष की चंद्रमा की महादशा में हुआ है। आपकी योनि-कपि, गण-देव, वर्ण-वैश्य, हंसक-भूमि, नाड़ी-अन्त्य, पाया-तांबा तथा प्रथम तीन चरण का वर्ग-सिंह एवं अन्तिम चरण का वर्ग-बिलाव है। श्रवण नक्षत्र में जन्मे लोग अपने कार्यक्षेत्र में ऊंचा नाम कमाते हैं। परोपकार व धार्मिक कार्यों में धन, समय व श्रम का समुचित उपयोग करेंगे।
यदि आपका जन्म मकर राशि के ‘धनिष्ठा नक्षत्र’ के प्रथम व द्वितीय चरण (गा, गी) में हुआ है, तो आपका जन्म 7 वर्ष की मंगल की महादशा में हुआ है। आपकी योनि-सिंह, गण-राक्षस, हंसक-भूमि, नाड़ी-मध्य, पाया-तांबा एवं वर्ग-बिलाव है। धनिष्ठा नक्षत्र में जन्मा व्यक्ति निडर व निर्भीक होता है। ये संगीत प्रेमी होते हैं और समाज में इनकी प्रतिष्ठा होती है।
मकर राशि वाले व्यक्ति प्रायः एकांतप्रिय व भीड़-भाड़ से दूर रहना पसन्द करते हैं। इनमें स्वार्थ की प्रवृत्ति कुछ विशेष रहने के कारण इनको धार्मिक व राजनैतिक क्षेत्र में सफलताएं कम मिलती हैं। ये अत्यधिक गोरे होंगे या काले। इसी प्रकार या तो ये कट्टर आस्तिक होंगे या फिर एकदम नास्तिक। आपके अनुकूल फलदायक रत्न ‘नीलम’ है।

मकर राशि वालों के लिए उपाय

आपकी राशि का अधिपति शनि है। अतः 7 प्रकार के अनाज व दालों को मिलाकर पक्षियों को चुगाएं। काले कुत्ते को रोटी खिलाना भी आपके लिए लाभप्रद रहेगा। गहरे रंग के कपड़ों का प्रयोग करें। बैंगनी रंग व नीला रंग उपयुक्त रहता है। नीलम, नीली या शनि यंत्र धारण करें। शनिवार का व्रत करें।

मकर राशि की प्रमुख विशेषताएं

  1. राशि ‒ मकर
    1. राशि चिह्न ‒ मगरमच्छ
    2. राशि स्वामी ‒ शनि
    3. राशि तत्त्व ‒ पृथ्वी तत्त्व
    4. राशि स्वरूप ‒ चर
    5. राशि दिशा ‒ दक्षिण
    6. राशि लिंग व गुण ‒ स्त्री, तमोगुणी
    7. राशि जाति ‒ वैश्य
    8. राशि प्रकृति व स्वभाव ‒ सौम्य स्वभाव, वात प्रकृति
    9. राशि का अंग ‒ घुटना (टखने)
    10. अनुकूल रत्न ‒ नीलम
    11. अनुकूल उपरत्न ‒ कटेला
    12. अनुकूल धातु ‒ लोहा, त्रिलोह
    13. अनुकूल रंग ‒ नीला, आसमानी, काला
    14. शुभ दिवस ‒ शनिवार
    15. अनुकूल देवता ‒ शनिदेव
    16. व्रत, उपवास ‒ शनिवार
    17. अनुकूल अंक ‒ 8
    18. अनुकूल तारीख़ें ‒ 8/17/26
    19. मित्र राशियां ‒ कुंभ
    20. शत्रु राशियां ‒ सिंह
    21. व्यक्तित्व ‒ परोपकारी, दयालु, प्रशासक
    22. सकारात्मक तथ्य ‒ व्यावहारिक धरातल पर चलने वाला कठोर परिश्रमी, सही सलाह देने वाला
    23. नकारात्मक तथ्य ‒ सन्देहास्पद प्रवृत्ति, कठिनता से मानने वाला
Advertisement
Tags :
Advertisement