For the best experience, open
https://m.grehlakshmi.com
on your mobile browser.

प्रेग्‍नेंसी के दौरान इन मेंटल प्रॉब्‍लम को न करें नजरअंदाज, बढ़ सकती है परेशानी

महिलाएं अपने शारीरिक स्‍वास्‍थ्‍य का ध्‍यान तो रख लेती हैं लेकिन मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य को नजरअंदाज करती हैं।
08:00 AM Aug 22, 2023 IST | Garima Shrivastava
प्रेग्‍नेंसी के दौरान इन मेंटल प्रॉब्‍लम को न करें नजरअंदाज  बढ़ सकती है परेशानी
Mental Health
Advertisement

Mental Health During Pregnancy- प्रेग्‍नेंसी अपने साथ उत्‍साह और चिंता दोनों लेकर आती है। इस दौरान महिलाओं को शारीरिक और मानसिक कई तरह की समस्‍याएं आती हैं। हालांकि दौरान महिलाएं अपने शारीरिक स्‍वास्‍थ्‍य का ध्‍यान तो रख लेती हैं लेकिन मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य को नजरअंदाज करती हैं। जिसका उनके मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य पर हानिकारक प्रभाव पड़ता है। प्रेग्‍नेंसी के दौरान मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य की स्थिति भय और नियंत्रण की कमी के कारण उत्‍पन्‍न हो सकती है। ये शरीर में होने वाला एक बड़ा बदलाव है जिसके लिए महिलाओं को मानसिक रूप से तैयार होना चाहिए। इस दौरान महिलाओं को हार्मोन और बॉडी चेंजेज से भी डील करना पड़ता है। इसके अलावा मूड स्‍वींग्‍स भी प्रेग्‍नेंसी का एक हिस्‍सा है, यदि आप लंबे समय तक तनावग्रस्‍त और चिंता महसूस करती हैं तो इससे आपकी काम करने की क्षमता प्रभावित होने लगती है। इसलिए इस समय महिलाओं को मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य की ओर जागरूक रहने की आवश्‍यकता है।

क्‍यों होती है प्रेग्‍नेंसी में मेंटल प्रॉब्‍लम

Why do mental problems happen during pregnancy?
Why do mental problems happen during pregnancy?

प्रेग्‍नेंसी से लेकर बच्‍चे के जन्‍म तक महिलाओं के शरीर में हार्मोनल परिवर्तन होते रहते हैं। शारीरिक परिवर्तनों के अलावा मूड स्‍विंग्‍स, चिड़चिड़ापन आदि जैसे बदलावों का सामना करना पड़ता है। जिस वजह से महिलाएं तनाव और डिप्रेशन महसूस करने लगती हैं। इस दौरान अधिक सोचना और छोटी-छोटी चीजों को गंभीरता से लेने से भी तनाव में बढ़ोतरी होती है। मेंटन प्रॉब्‍लम होने का मुख्‍य कारण हार्मोंस हैं जो कई चीजों को प्रभावित करते हैं।

प्रेग्‍नेंसी में इन लक्षणों पर दें ध्‍यान

प्रेग्‍नेंसी में शरीर में होने वाले किसी भी बदलाव को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। यदि आप इन लक्षणों को नोटिस करते हैं तो चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें।

Advertisement

-लगातार नकारात्‍मक विचार आना

-दो हफ्ते से अधिक चिंतित रहना

Advertisement

-हमेशा स्‍ट्रेस में रहना

-पेनिक अटैक

Advertisement

-दिन-प्रतिदिन की एक्टिविटी में इंस्‍ट्रेस्‍ट न दिखाना

यह भी पढ़ेंः किस दिन कौनसा काम करने से मिलती है सफलता? जानें शास्त्रों में दर्ज ये बातें: Vastu Shastra

प्रेग्‍नेंसी में मेंटल हेल्‍थ कंडीशन

-बाईपोलर डिसऑर्डर

-ट्रॉमा स्‍ट्रेस डिसऑर्डर

-ऑब्‍सेशनल कंडीशन

-इटिंग प्रॉब्‍लम

प्रेग्‍नेंसी में मेंटल हेल्‍थ का ऐसे करें उपचार

How to treat mental health during pregnancy
How to treat mental health during pregnancy

प्रेग्‍नेंसी के दौरान महिलाओं को अपनी मेंटल हेल्‍थ को प्रबंधित करने के लिए ये सावधानियां बरतनी चाहिए।

-प्रेग्‍नेंसी के दौरान खुद पर अधिक दबाव न डालें। अपनी क्षमताओं के बारे में यथार्थवादी बनें और जरूरत पड़ने पर ब्रेक लें।

-जब तक आवश्‍यक न हो तब तक किसी तरह का बड़ा बदलाव न करें। जैसे ट्रांसफर लेना या जॉब बदलना। इससे आपको मानसिक तनाव हो सकता है।

-मेंटल हेल्‍थ को सुधारने के लिए एक्‍सरसाइज करें। इस दौरान आप एक्‍सरसाइज क्‍लासेस भी ज्‍वॉइन कर सकते हैं।

-डाइट पर विशेष ध्‍यान दें।

-उन लोगों के साथ अधिक समय बिताएं जो आपको मोटिवेट करते हैं।

-दिमाग को शांत करने के लिए ड्रग्‍स या शराब लेने से बचना चाहिए।

-मेंटल सपोर्ट के लिए अन्‍य प्रेग्‍नेंट महिलाओं के संपर्क में रहें।

-इस दौरान दूसरों से सहायता लेने में संकोच न करें।

-प्रेग्‍नेंसी में भरपूर नींद लेनी चाहिए।

-इस दौरान फाइनिएंशन स्‍ट्रैस लेने से भी बचें।

-प्रेग्‍नेंसी के दौरान अकेले रहने से भी तनाव और डिप्रेशन हो सकता है इसलिए परिवार के साथ वक्‍त गुजारें।

Advertisement
Tags :
Advertisement