For the best experience, open
https://m.grehlakshmi.com
on your mobile browser.

चंदन नहीं ये है दुनिया की सबसे महंगी लकड़ी, एक पेड़ ही आपको बना देगा लखपति: Most Expensive Wood

दुनियाभर में सबसे महंगी मिलने वाली लकड़ी है अफ्रीकन ब्लैक वुड। यह लकड़ी चंदन से कई गुणा महंगी है। साथ ही बहुत भी दुर्लभ है। अफ्रीकन ब्लैक वुड इतनी महंगी है कि इसकी एक किलो की कीमत में आप एक लग्जरी कार खरीद सकते हैं।
12:00 PM Aug 26, 2023 IST | Ankita Sharma
चंदन नहीं ये है दुनिया की सबसे महंगी लकड़ी  एक पेड़ ही आपको बना देगा लखपति  most expensive wood
Advertisement

Most Expensive Wood: दुनिया की सबसे महंगी लकड़ी की जब भी बात होती है तो अकसर लोग चंदन की लकड़ी का नाम लेते हैं। लेकिन ऐसा नहीं। चंदन दुनिया की सबसे महंगी लकड़ी नहीं है। दुनियाभर में सबसे महंगी मिलने वाली लकड़ी है अफ्रीकन ब्लैक वुड। जी हां, यह लकड़ी चंदन से कई गुणा महंगी है। साथ ही बहुत भी दुर्लभ है। अफ्रीकन ब्लैक वुड इतनी महंगी है कि इसकी एक किलो की कीमत में आप एक लग्जरी कार खरीद सकते हैं। तो चलिए जानते हैं, क्या है ये लकड़ी और क्यों है ये इतनी महंगी।

एक किलो की कीमत जान हो जाएंगे हैरान

अफ्रीकन ब्लैक वुड एक दुर्लभ लकड़ी है, इसलिए लोगों ने इसका नाम कम ही सुना है। यह लकड़ी भारत में नहीं पाई जाती है। चंदन की लकड़ी की कीमत औसतन जहां सात से आठ हजार रुपए प्रति किलो होती है, वहीं अफ्रीकन ब्लैक वुड की कीमत करीब आठ हजार डॉलर यानी करीब साढ़े छह लाख रुपए प्रति किलो है। ऐसे में ये चंदन से कई गुणा महंगी लकड़ी है। अगर किसी शख्स के पास मात्र एक किलो अफ्रीकन ब्लैक वुड भी है तो भी वह उससे एक कार खरीद सकता है। वहीं अगर किसी के पास इसका पूरा पेड़ है तो आपका करोड़पति होना तय है।

इसलिए बढ़ी इस लकड़ी की कीमत

अफ्रीकन ब्लैक वुड रेयर ट्री है। यह दुनियाभर में मात्र 26 देशों में ही मिलता है।
African black is found only in 26 countries worldwide

अफ्रीकन ब्लैक वुड रेयर ट्री है। यह दुनियाभर में मात्र 26 देशों में ही मिलता है। यह पेड़ मूल रूप से तंजानिया जैसे मध्य अफ्रीका के देशों में मिलता है। इसी के साथ सेनेगल पूर्व से इरिट्रिया तक अफ्रीका महाद्वीप के सूखे क्षेत्रों और दक्षिण अफ्रीका के मध्य और दक्षिणी भागों में ये पेड़ मिलते हैं। इस पेड़ की ऊंचाई 25 से 40 फीट होती है। इसके दुर्लभ होने का एक कारण यह है कि यह धरती पर सीमित संख्या में है। ऐसे में यह काफी दुर्लभ है। इस पेड़ को विकसित होने में करीब 60 साल का समय लगता है। सीमित संख्या और अधिक मांग के कारण एक ओर जहां इसकी कीमतें आसमान छू रही है, वहीं दूसरी ओर इसकी तस्करी भी बढ़ रही है।

Advertisement

म्यूजिकल इंस्ट्रूमेंट से लेकर लग्जरी फर्नीचर तक उपयोग

अफ्रीकन ब्लैकवुड एक अत्यंत कठोर लकड़ी है। यह मजबूत होने के साथ ही स्थिर रहती है, ऐसे में इसपर नक्काशी करना बेस्ट रहता है। यह प्राकृतिक रूप से चिकनी और चमकदार होती है, ऐसे में इसपर पॉलिश आसानी से होती है और पॉलिश से इस लकड़ी की खूबसूरती और बढ़ जाती है। भारत में इसे सतिसाल कहा जाता है। अफ्रीकन ब्लैकवुड से लग्जरी फर्नीचर बनने के साथ ही म्यूजिकल इंस्ट्रूमेंट तैयार किए जाते हैं। इस लकड़ी से ओबो, शहनाई जैसे म्यूजिकल इंस्ट्रूमेंट ज्यादा बनाए जाते हैं। क्योंकि ऐसे वाद्य यंत्रों को बनाने के लिए मजबूत लकड़ी की जरूरत होती है।

Advertisement
Advertisement
Tags :
Advertisement