For the best experience, open
https://m.grehlakshmi.com
on your mobile browser.

सिंह राशिफल – Singh Rashifal 2024- 24 June To 30 June

12:00 AM Jun 22, 2024 IST | Reena Yadav
सिंह राशिफल – singh rashifal 2024  24 june to 30 june
Leo horoscope 2024
Advertisement

मा, मी, मु, मे मघा-4

मो, टा, टी, टु पूर्वाफाल्गुनी-5

टे उत्तराफाल्गुनी-1

Advertisement


24 जून से 30 जून तक

दिनांक 24, 25 को उत्तम सम्पत्तिदायक दिवस रहेगा। आप खुद को ऊर्जा से भरपूर मह- सूस करेंगे क्योंकि आप काम के साथ-साथ आराम भी करेंगे। रंगमंच से संबंधित लोगों के लिए यह बेहतरीन समय रहेगा। 26, 27 को सप्तम चन्द्रमा सुख-शांतिदायक समय रहेगा। आप लोगों से भेंट और मुलाकातों के साथ समय का आनंद उठाएंगे। आप इस समय रोमांटिक मूड में रहेंगे। 28, 29 को कष्टसूचक समय रहेगा। आपको कोई भावनात्मक ठेस पहुँचाएगा। आपके अपने ही आपसे विरोधी होंगे जो कि आपको सहन नहीं होगा। 30 को समय पूर्णतया अनुकूल रहेगा। आप ईश्वर की आराधना में लगे रहेंगे।

ग्रह स्थिति

मासारम्भ में केतु कन्या राशि का द्वितीय भाव में, शनि कुंभ राशि का सप्तम भाव में मंगल+चंद्रमा+राहु मीन राशि का अष्टम भाव में, बृहस्पति+सूर्य+शुक्र+बुध वृषभ राशि का दशम भाव में चलायमान है।

Advertisement

सिंह राशि की शुभ-अशुभ तारीख़ें

2024शुभ तारीख़ेंसावधानी रखने योग्य अशुभ तारीख़ें
जनवरी1, 2, 5, 6, 22, 23, 24, 28, 297, 8, 9, 16, 17, 25, 26
फरवरी1, 2, 3, 18, 19, 20, 24, 25, 294, 5, 12, 13, 14, 21, 22
मार्च1, 17, 18, 22, 23, 24, 27, 282, 3, 4, 10, 11, 12, 20, 21, 30, 31
अप्रैल13, 14, 15, 18, 19, 20, 23, 247, 8, 16, 17, 26, 27
मई11, 12, 16, 17, 20, 21, 224, 5, 6, 13, 14, 23, 24, 25
जून7, 8, 12, 13, 14, 17, 181, 2, 10, 11, 20, 21, 28, 29
जुलाई4, 5, 6, 9, 10, 11, 14, 157, 8, 17, 18, 25, 26, 27
अगस्त1, 2, 6, 7, 10, 11, 12, 28, 293, 4, 13, 14, 15, 21, 22, 23, 31
सितम्बर2, 3, 4, 7, 8, 24, 25, 29, 301, 10, 11, 18, 19, 27, 28
अक्टूबर1, 4, 5, 21, 22, 23, 27, 28, 316, 7, 8, 15, 16, 17, 24, 25
नवम्बर1, 2, 18, 19, 23, 24, 27, 28, 293, 4, 5, 12, 13, 21, 30
दिसम्बर15, 16, 20, 21, 22, 25, 261, 2, 9, 10, 11, 18, 19, 28, 29

सिंह राशि का वार्षिक भविष्यफल

Singh Rashifal 2024
सिंह राशि

यह साल 2024 सिंह राशि वाले जातकों के लिए मध्यम फलकारी रहेंगे। कभी खुशी तो कभी गम वाला वातवरण रहेगा। इस साल स्वास्थ्य तो ठीक रहेगा, परंतु फिर भी आपको परिवार के किसी सदस्य या

मित्र के स्वास्थ्य को लेकर दो-तीन बार अस्पताल जाना पड़ सकता है। शनि सप्तम में स्थित है। अतः जीवन साथी का स्वास्थ्य डावाडोल रह सकता है। बृहस्पति भाग्य में है। कैरियर के लिहाज से महत्वपूर्ण योजना बनायेंगे। व्यापार व कारोबार विस्तार की जो योजना पिछले काफी समय से चल रही थी, उस पर काम शुरू होगा। आपका पूरा फोकस व्यापार को बढ़ाने पर होगा। मार्केटिंग पर ध्यान देंगे। चन्द्रमा वर्षारंभ में आपकी राशि में स्थित है, जो मनोबल को काफी बलवान रखेगा। चल अचल सम्पति में इजाफा होगा। इस साल आप भूमि, भवन, वाहन आदि की खरीद कर सकते हैं। हालांकि खरीददारी से पूर्व कागजात को अच्छी तरह से चैक कर लें, अतिविश्वास में आपके साथ कोई विश्वासघात हो सकता है। राशि का स्वामी सूर्य पाँचवे तथा मई तक बृहस्पति भाग्य स्थान में स्थित है। विद्यार्थी पूर्ण रूप से अपने अध्ययन पर केन्द्रित रहेंगे। विद्यार्थियों का परिणाम भी उनकी मेहनत व परिश्रम के अनुकुल ही आयेगा। नौकरी से संबंधित परीक्षा विभागीय परीक्षा, प्रमोशन आदि से संबंधित परीक्षा में सफलता दृष्टिगोचर हो रही है।

Advertisement

अगर आप राजकीय सेवा में हैं, तो यह साल आपके लिए उन्नतिप्रद रहेगा। आपको नौकरी में महत्वपूर्ण कार्यभार मिल सकता है, फिर भी आपको व्यवहार में सावधानी रखने की आवश्यकता है। अजनबी व अपरिचित व्यक्तियों से सावधान रहे। मई के पश्चात् देवगुरु बृहस्पति आपकी राशि से दशम स्थान में आकर नौकरी में कार्यभार अधिक रहेगा। व्यापार में

आपकी नवीन योजना व नई प्लानिंग पर काम शुरू होगा। केतु दूसरे स्थान में स्थित है। अतः पैसा पास में नहीं टिक पायेगा।

धन आने से पहले जाने का रास्ता तैयार रहेगा। कहीं से रुका हुआ व अटका रुपया प्राप्त होगा। शनि सातवें स्थान में स्थित है। अतः प्रेम प्रसंग व संबंध पारिवारिक तनाव का कारण बन सकता है। आपको पारिवारिक जीवन में बेहतर तालमेल बनाना चाहिए। घर के बड़े बुजुर्गों का आशीर्वाद प्राप्त होगा, हालांकि उनका स्वास्थ्य जरूर चिंता का कारण बनेगा। मित्रें की संख्या बढ़ेगी हालांकि मित्र सच्चे व अच्छे नहीं होंगे। अवसरवादी मित्रें से सावधान रहें। आप सिंह राशि के जातक हैं। सिंह राशि के जातक अति उत्साही होते हैं, तथा अति-उत्साह में कई बार

ऐसे काम कर जायेंगे, जिसकी कभी किसी ने कल्पना भी नहीं की होगी। कोर्ट-केस विवाद आदि।

घर, परिवार, संतान व रिश्तेदारः- इस साल विवाह

योग्य जातकों के विवाह की बात आगे बढ़ेगी। बातचीत का सिलसिला जरूर आरम्भ होगा। आप यह महसूस करेंगे कि जीवन साथी से कदम-कदम पर आपको साथ व सहयोग मिल रहा है। हालांकि वर्ष पर्यंत सप्तम में शनि के कारण जीवन साथी का स्वास्थ्य जरूर कमजोर रह सकता है। 30 जून से 15 नवम्बर तक शनि के वक्र काल में ज्यादा सावधानी अपेक्षित है। संतान की शिक्षा, विवाह, कैरियर आदि पर जमकर खर्चा होगा। संतान आपकी आज्ञा में भी रहेगी। भाइयों से सम्पत्ति संबंधी विवाद व बंटवारे से संबंधित विवाद कहीं न कहीं किसी की मध्यस्थता से सुलझ जायेगा। रिश्तेदारों से आपको भावनात्मक सम्बल प्राप्त होगा। पिता-पुत्र में वैचारिक मतभेद रहेंगे। इसी प्रकार 30 जून से 15 नवम्बर के मध्य शनि के वक्रकाल में घर के किसी वरिष्ठ व बुजुर्ग सदस्य का स्वास्थ्य गड़बड़ हो सकता है। बृहस्पति मई के पश्चात् दशक स्थान में आकर संतान के कैरियर विवाह आदि से संबंन्धित शुभ समाचार दिलवा सकते हैं।

विद्याध्ययन, पढ़ाई व कैरियरः- विद्यार्थियों के लिए यह साल 2024 उपलब्धियों से परिपूर्ण रहेगा। विद्यार्थियों को सफ- लता मिलेगी। कैरियर व नौकरी से संबंधित परीक्षा, विभागीय

परीक्षा का परिणाम अनुकुल आयेगा ही। परंतु आप पूरी लगन पूरी निष्ठा व ईमानदारी से अध्ययन में जुट जाए। कुसंगति व गलत लोगों से दूर रहें। साथ ही सोशल मीडिया फेसबुक, व्हाट्सप्प आदि से दूरी बनाकर रखें। मेडिकल, इंजीनियरिंग व मैनेजटमेंट से जुड़े विद्यार्थियों के लिए साल उपयुक्त है। 1 मई के पश्चात् दसवाँ शनि परिश्रम से लाभ दिलवा सकता है। नौकरी में थोड़ा दबाव बना रहेगा, वर्क प्रेशर के साथ-साथ वर्क लोड भी रहेगा। पुस्तकों को मित्र बनाएं, लक्ष्य पर पैनी नजर आपको सफलता की ओर अग्रसर करेगी। विद्यार्थी को मन व ध्यान को एकाग्र करने के लिए मेडिटेशन (ध्यान) करें। प्रेम-प्रसंग व मित्रः- वर्षारम्भ में पाँचवे स्थान में मंगल-सूर्य का योग है। अतः प्रेम प्रसंगों में व्यस्त रखेगा। बृहस्पति-मंगल में वर्षारंभ में परिवर्तन योग प्रेम संबंन्धों के लेकर तनाव भी रखेगा। पारिवारिक सुख-शांति तो बाधित होगी ही। साथ ही प्रेम प्रसंगों के उजागर होने का भय है। आप इस साल 30 जून से 15 नवम्बर के मध्य किसी मित्र

द्वारा विश्वाघात या धोखे का शिकार हो सकते हैं, मित्र कोई सच्ची-झूठी कहानी सुनाकर आपके विश्वास का नाजायाज फायदा उठा सकते हैं। दायरे में, मर्यादा के अंतर्गत किया गया प्रेम आपके व्यक्तित्व को ऊचाईयां प्रदान करेगा। प्रेम का समाधान इस साल में निकलने के आसार हैं। खर्चों पर नियंत्रण रखें, अन्यथा उधार लेने की भी नौबत आ सकती है। संतान की शिक्षा, विवाह व सगाई इत्यादि पर इस साल किसी खर्चे के

योग हैं। नौकरी में आगे बढ़ने के अवसर आपकी प्रतीक्षा कर रहे हैं। लेकिन आपको पहले से और ज्यादा मेहनत व परिश्रम करने की आवश्यकता है। प्राईवेट नौकरी में लक्ष्यों को हासिल करने का दबाव तो रहेगा, लेकिन आप सूझ-बूझ और विवेक से लक्ष्यों को अंतिम समय तक हासिल कर लेगें।

शारीरिक सुख एवं स्वास्थ्यः- स्वास्थ्य को लेकर यह साल ठीक ही रहेगा। किसी गंभीर व घातक बीमारी की आशंका व संभावना नहीं है। छोटी-मोटी बीमारियों से परेशानियां रहेगी। बृहस्पति का परिभ्रमण इस वर्ष मई तक नवम भाव में है। अतः मौसमी बीमारियां, सर्दी, खांसी, जुकाम, सिरदर्द जैसी

व्याधि हावी हो सकती हैं। पुराना रोग ज्यादा परेशान नहीं करेगा, परंतु पुराने रोग के प्रति सावधान अवश्य रहें। खान-पान, पाचन तंत्र के रोगों के प्रति भी सावधान रहें। वाहन सावधानीपूर्वक चलावे। 30 जून से 15 नवम्बर के मध्य शनि का वक्रत्व परिभ्रमण नुकसान प्रद रह सकता है। शारीरिक व्यायाम का ध्यान रखें। अपनी दिनचर्या व खान-पान को व्यवस्थित रखें।

व्यापार, व्यवसाय व धनः- सिंह राशि के जातक अति उत्साही व ऊर्जावान होते हैं। इस वर्ष काम-काज में आप अपनी ऊर्जा व क्षमताओं का भरपूर इस्तेमाल करेंगे। हालांकि बाजार में चल रही सुस्ती व मंदी से आपका काम-काज प्रभावित होगा। लेकिन फिर भी अपनी मेहनत अपने परिश्रम से आप हर चुनौती का दृढता से मुकाबला कर देंगे, व्यापार में काफी ठोस व महत्वपूर्ण निर्णय लेंगे, जिससे आपके मुनाफे में वृद्धि होगी, इस वर्ष व्यावसायिक गतिविधियां तेज रहेंगी। मई के पश्चात् गुरु कर्म स्थान दशम भाव में आकर आपके काम को बढ़ायेगें। अतिरिक्त कार्यभार भी रहेगा। व्यावसायिक प्रतिद्वन्दीयों व प्रतिस्पर्धियों से आप अपने आपको आगे पायेंगे। कोई सरकारी दिक्कत या परेशानी हो सकती है। भागीदार की गतिविधि पर नजर रखें। इस वर्ष सम्पति के रख-रखाव पर खर्चा होगा। मकान की मरम्मत आदि पर खर्चा होगा। धन संचय का मामला कमजोर ही रहेगा, पैसा पास में टिक नहीं पायेगा। कुछ अप्रत्याशित व आकस्मिक खर्चों की स्थिति भी रहेगी। रिश्तेदारों से लेन-देन व हिसाब-किताब साफ रखें। अन्यथा रिश्तों में खटास पैदा हो सकती है। क्वालिटी की बजाय

क्वान्टिटी पर ध्यान दें।

वाहन, खर्च व शुभ कार्यः- इस वर्ष आपको वाहन से परेशानी रहेगी। वाहन पर बार-बार खर्चा करने के बावजूद भी आपको वाहन से परेशानी रहेगी। इस साल खर्चा दबाकर होगा, परंतु खर्च के साथ-साथ आय भी दबाकर ही होगी। इस वर्ष नया वाहन खरीदने का विचार भी आप बना सकते हैं। अचल सम्पति की खरीद के योग बने हुए हैं। जहाँ तक शुभ खर्च की बात है। मई 2024 के बाद बृहस्पति का वृषभ राशि में परिभ्रमण किसी शुभ व मांगलिक कार्य की रूपरेखा बना

सकता है। घर के किसी सदस्य के स्वास्थ्य पर खर्चा हो सकता है।

हानि, कर्ज व अनहोनीः- इस साल 30 जून से 15 नवम्बर के मध्य शनि के वक्र काल में किसी रिश्तेदार या

घनिष्ठ व्यक्ति के साथ कोई अनहोनी हो सकती है। व्यापार में विस्तार की योजना, या भूमि, भवन वाहन की खरीद के लिए ऋण लेना पड़ सकता है। इस साल शुभ कार्य व मांगलिक ऋण लेना पड़ेगा। जहाँ तक धन हानि का प्रश्न है। इस साल

धन हानि की संभावना नहीं है, परंतु किसी पर भी अत्यधिक विश्वास हानि का कारण बनेगा।

यात्रऐंः- इस वर्ष काम-काज को लेकर आप यात्रऐं करेंगे। वर्ष के पूर्वार्द्ध में परिवार के साथ किसी धार्मिक यात्र

या घूमने-फिरने का कार्यक्रम बन सकता है। यात्रओं में आपने भोजन व खान-पान का विशेष ध्यान रखें।

आपको ट्रैप किया जा सकता है।

आपको ट्रैप किया जा सकता है। मित्रों की तरफ मदद का हाथ बढ़ाएंगे, परन्तु मित्रों की भीड़ में आपको कुछ अवसरवादी लोग भी मिलेंगे।

सिंह राशि की चारित्रिक विशेषताएं

आपकी राशि का अधिपति सूर्य है, जो तेजस्वी व ओजयुक्त पौरुष का प्रतिनिधित्व करता है। सिंह राशि के व्यक्ति निर्भीक, उदार व अभिमानी होते हैं। चित्त में दृढ़ता, साहस तथा धैर्य इनमें विशेष मात्रा में पाया जाता है। सूर्य आत्मशक्ति या आत्मविश्वास का कारक ग्रह माना जाता है। अतएव सिंह राशि वाले पुरुषों में आत्मशक्ति ग़ज़ब की होती है। ये कठिन-से-कठिन परिस्थितियों में भी नहीं घबराते। उनके अंदर आत्मविश्वास का भाव पूर्ण रूप से विद्यमान रहता है तथा अपनी बुद्धि एवं पराक्रम के बल पर वे जीवन में उन्नति प्राप्त करने में समर्थ रहते हैं। धनैश्वर्य, वैभव एवं भौतिक सुख-संसाधनों से ये प्रायः युक्त रहते हैं तथा जीवन में सुखपूर्वक इसका उपभोग करते हैं। ये जातक सिद्धांतवादी होते हैं तथा अपने सिद्धांतों की रक्षा के लिए सदैव तत्पर रहते हैं। इनकी प्रवृत्ति धार्मिक होती है तथा स्वभाव में परोपकार का भाव भी रहता है, फलतः ये पूर्ण विश्वास के योग्य होते हैं। इसके अतिरिक्त सरकारी या गैर-सरकारी क्षेत्रों में किसी उच्च पद को प्राप्त करने में समर्थ होते हैं, जिससे सामाजिक मान-प्रतिष्ठा तथा यश समाज में विद्यमान रहता है, साथ ही नेतृत्व की क्षमता भी इनमें विद्यमान रहती है।
अतः इसके प्रभाव से आपका व्यक्तित्व आकर्षक रहेगा, जिससे अन्य लोग आपसे प्रभावित रहेंगे। आप निर्भीक पुरुष होंगे तथा अपने समस्त शुभ एवं सांसारिक कार्यकलापों को निर्भयता से संपन्न करके उनमें वांछित सफलता प्राप्त करेंगे, जिससे आपको भौतिक सुख-संसाधनों एवं अन्य ऐश्वर्य की प्राप्ति होगी तथा उन्नति के मार्ग भी प्रशस्त रहेंगे, फलतः आपका जीवन सुखपूर्वक व्यतीत होगा।
आपके हृदय में उदारता का भाव भी विद्यमान रहेगा तथा अन्य लोगों के प्रति स्नेह के भाव का प्रदर्शन भी करेंगे। आपको स्वपुरुषार्थ से जीवन में सफलता प्राप्त होगी तथा प्रतियोगिता के क्षेत्र में आप सफल होंगे। आपके शत्रु व प्रतिद्वंन्द्वी आपसे भयभीत होंगे, परंतु यदि आप अन्य जनों के साथ पूर्ण समानता का व्यवहार करेंगे, तो आप समाज में लोकप्रियता तथा अतिरिक्त प्रतिष्ठा भी अर्जित करने में समर्थ हो सकते हैं।
आप में शारीरिक बल की प्रधानता विशेष रहेगी तथा परिश्रम एवं पराक्रम में अपने सांसारिक महत्त्व के कार्यों को संपन्न करेंगे तथा इनमें इच्छित सफलता प्राप्त करके जीवन में उन्नति के मार्ग प्रशस्त करेंगे। राजनीति या व्यापार आदि में आप उन्नतिशील रहेंगे तथा इन क्षेत्रों में आपकी श्रेष्ठता बनी रहेगी।
आपके स्वभाव में तेजस्विता का भाव भी विद्यमान रहेगा। अतः यदा-कदा आप अनावश्यक क्रोध या उग्रता के भाव का भी प्रदर्शन करेंगे। आयुर्वेद एवं योग आदि के प्रति आपकी आस्था विद्यमान रहेगी। आप में गंभीरता का भाव विद्यमान होगा, फलतः आपके कार्य धैर्यपूर्वक संपन्न होंगे, जिससे आपको सफलता प्राप्त होगी।
सूर्य राजयोग कारक ग्रह है। सिंह राशि के जातक प्रायः राजा की तरह ऐश्वर्य व प्रतिष्ठा का उपभोग करते हैं। ऐसे व्यक्तियों का चेहरा तेजस्वी व लालिमा युक्त होता है।
धर्म के प्रति आपके मन में श्रद्धा रहेगी तथा श्रद्धापूर्वक धार्मिक कार्यकलापों तथा अनुष्ठानों को संपन्न करेंगे। इसी परिप्रेक्ष्य में सत्संग आदि में भी अपना योगदान प्रदान कर सकते हैं। आपको भ्रमण या पर्वतीय क्षेत्र में घूमना रुचिकर लगेगा। अतः आप समय-समय पर ऐसे स्थानों की सैर करते रहेंगे। इस प्रकार समस्त सुखों का उपभोग करते हुए आप अपना समय व्यतीत करेंगे।
सिंह राशि पुरुष संज्ञक व अग्नि तत्त्व प्रधान राशि है। आप उदार हृदय होने के नाते लोगों को क्षमा कर देते हैं। परंतु यदि कोई आपके मान, पद व प्रतिष्ठा पर कालिख पोतने की कोशिश करता है, तो आप उसे कभी भी क्षमा नहीं करेंगे। आपके जोश, हिम्मत व रोब के सामने शत्रु के हौसले पस्त हो जाएंगे। शत्रु आपके सामने आने से हमेशा घबराएगा, इसलिए पीठ पीछे आपकी बुराई होगी व सम्मुख प्रशंसा। आप चापलूस लोगों से बचें।
सिंह राशि चतुष्पद, शीर्षोदय व दिनबली है। रात्रि के कार्यकलाप आपके लिए अनुकूल नहीं कहे जा सकते। आप किसी के भी अधीनस्थ रहकर कार्य नहीं कर सकते। आप स्वच्छंदचारी व स्वतंत्र विचारों वाले व्यक्ति हैं। यदि आप व्यापारी हैं, तो आप देखेंगे कि आपका भागीदार आपसे कुछ दबा हुआ, डरा हुआ-सा होगा। यह आपकी प्रकृति प्रदत्त शक्ति व जन्मजात विशेषता है।
यदि आपका जन्म सिंह राशि के अन्तर्गत ‘मघा नक्षत्र’ (मा, मी, मु, मे) में हुआ है, तो आपका जन्म 7 वर्ष की केतु की दशा के अन्तर्गत हुआ है। आपकी योनि‒मूषक, गण‒राक्षस, वर्ण‒क्षत्रिय, हंसक‒वायु, नाड़ी‒आद्य, पाया‒चांदी एवं वर्ग भी मूषक है। आप ठिगने कद के सुदृढ़ वक्ष-स्थल एवं मज़बूत जंघाओं के मालिक हैं। गर्दन कुछ मोटी, वाणी में कुछ कर्कशता व रुखापन सिंह राशि वाले व्यक्ति की विशेषता है। इस नक्षत्र में जन्म लेने वाले व्यक्तियों को प्रायः 5 व 6 नम्बर के दांत तीखे, जिह्वा चौकोर व खुरदरी होती है। मघा नक्षत्र में जन्म लेने वाले व्यक्तियों की आंखों में कुछ विशेष आकर्षण होता है, चेहरा शेर के समान भरा हुआ व रोबीला होता है। प्रायः इस राशि वाले व्यक्ति पुरुषार्थ व अपने पौरुष प्रदर्शन के लिए लालायित रहते हैं तथा इनको शानदार मूंछे रखने का बड़ा शौक रहता है। कुछ हद तक अभिमानी होने के नाते ये बहुत जल्दी नाराज़ भी हो जाते हैं तथा अपनी मर्दानगी एवं बलशाली शक्ति का दुरुपयोग करने में भी नहीं हिचकिचाते।
यदि आपका जन्म सिंह राशि के अन्तर्गत ‘पूर्वा फाल्गुनी नक्षत्र’ (मो, टा, टी, टू) में हुआ है, तो आपका जन्म 20 वर्ष की शुक्र की महादशा में हुआ है। आपकी योनि‒मूषक, गण‒मनुष्य, वर्ण‒क्षत्रिय, हंसक‒वायु, नाड़ी‒मध्य, पाया‒चांदी इस नक्षत्र के प्रथम चरण का वर्ग-मूषक तथा अंतिम तीन चरण का वर्ण-श्वान है। इस नक्षत्र में जन्मे व्यक्ति मधुर भाषी एवं भ्रमणशील होते हैं। इन्हें पानी से बहुत प्रेम होता है।
यदि आपका जन्म सिंह राशि के अन्तर्गत ‘उत्तरा फाल्गुनी नक्षत्र’ के प्रथम चरण (टे) में हुआ है, तो आपका जन्म 6 वर्ष की सूर्य की महादशा में हुआ है। आपकी योनि‒गौ, गण‒मनुष्य, वर्ण‒क्षत्रिय, हंसक‒वायु, नाड़ी‒आद्य, पाया‒चांदी तथा वर्ग‒श्वान है। इस नक्षत्र में जन्मे जातक सूर्य के समान तेजस्वी होते हैं तथा अपने परिश्रम से बहुत सारा धन एवं बहुत नाम अर्जित करते हैं।
सिंह राशि वालों के पिता-पुत्र में कम बनती है। धार्मिक क्षेत्र में आप शक्ति के उपासक हैं। भैरों, सिंह एवं सूर्य इत्यादि शक्ति प्रधान देवताओं में आपकी रुचि रहेगी। सिंह राशि, उष्ण-स्वभाव, अल्प-संतति, पीतवर्ण, भ्रमणप्रिय व निर्जल राशि है। आपको मलाईदार वस्तुओं में रुचि रहेगी। सूर्य का तेजोमय ‘माणिक्य रत्न’ आपके लिए सदा सर्वथा अनुकूल व शुभ रहेगा।

सिंह राशि वालों के लिए उपाय

4 1/4 का ‘माणिक्य’ या ‘सूर्यकांतमणि’ धारण करें। आदित्य हृदय स्रोत का रोज़ाना पाठ करें। सूर्य को अर्घ्य दें। लाल रंग के 7 पुष्प भाग्योदय व उन्नति की कामना से जलाशय में प्रवाहित करें। लाल रंग के पुष्प व पत्ते वाले पौधे को रोज़ाना जल दें। अनार के पौधे को सींचें।

सिंह राशि की प्रमुख विशेषताएं

  1. राशि ‒ सिंह
    1. राशि चिह्न ‒ शेर
    2. राशि स्वामी ‒ सूर्य
    3. राशि तत्त्व ‒ अग्नि तत्त्व
    4. राशि स्वरूप ‒ स्थिर
    5. राशि दिशा ‒ पूर्व
    6. राशि लिंग व गुण ‒ पुरुष, सतोगुणी
    7. राशि जाति ‒ क्षत्रिय
    8. राशि प्रकृति व स्वभाव ‒ क्रूर स्वभाव, पित्त प्रकृति
    9. राशि का अंग ‒ हृदय
    10. राशि का रत्न ‒ माणिक्य
    11. अनुकूल उपरत्न ‒ सूर्यकांत मणि
    12. अनुकूल धातु ‒ स्वर्ण
    13. अनुकूल रंग ‒ चमकीला श्वेत, पीला, भगवा
    14. शुभ दिवस ‒ रविवार, बुधवार
    15. अनुकूल देवता ‒ सूर्य
    16. व्रत, उपवास ‒ रविवार
    17. अनुकूल अंक ‒ 1
    18. अनुकूल तारीख़ें ‒ 1/10/19/28
    19. मित्र राशियां ‒ मिथुन, कन्या, मेष, धनु
    20. शत्रु राशियां ‒ वृषभ, तुला, मकर, कुंभ
    21. सकारात्मक तथ्य ‒ खुले दिल-दिमाग वाला, उदारमना, गर्मजोशी
    22. नकारात्मक तथ्य ‒ घमंडी, अति आत्मविश्वास, अति महत्त्वाकांक्षी
Advertisement
Tags :
Advertisement