For the best experience, open
https://m.grehlakshmi.com
on your mobile browser.

सुनहरी और उजाला - दादा दादी की कहानी

10:00 AM Oct 02, 2023 IST | Reena Yadav
सुनहरी और उजाला   दादा दादी की कहानी
sunaharee aur ujaala, dada dadi ki kahani
Advertisement

Dada dadi ki kahani : एक बहुत सुंदर मुर्गी थी। उसके पंख सुनहरे और लाल रंग के थे। उसके दोस्त उसे प्यार से 'सुनहरी' कहकर बुलाते थे।

एक दिन सुनहरी आराम से घूम-घूमकर दाना चुग रही थी। तभी एक लोमड़ी ने उसे देखा। इतनी तंदुरुस्त और सुंदर मुर्गी को देखकर उसके मुँह में पानी आ गया। उसने सोचा कि आज रात के खाने का इंतज़ाम हो गया।

वह छिपकर बैठ गई और मौका लगते ही उसने सुनहरी को पकड़ लिया। उसने सुनहरी को एक बोरी में डाला और अपने घर की ओर चल पड़ी।

Advertisement

सुनहरी मुर्गी के दोस्त सफेद कबूतर ने लोमड़ी को देख लिया था। कबूतर के सफ़ेद रंगों के कारण सब उसे उजाला कहकर बुलाते थे। उजाला अपनी प्यारी दोस्त को छुड़ाना चाहता था।

वह तेज़ी से उड़कर लोमड़ी से आगे निकल गया। थोड़ी दूरी पर वह ज़मीन पर लेट गया और ऐसा बहाना करने लगा जैसे कि उसका एक पंख टूट गया है। लोमड़ी ने एक सफ़ेद कबूतर को ज़मीन पर पड़ा देखा तो खुश हो गई। उसने सोचा कि आज तो खाने का मज़ा आ जाएगा। कबूतर और मुर्गी दोनों .. वाह .....

Advertisement

वह उजाला की ओर लपकी। उजाला ने ऐसा नाटक किया कि जैसे वह उड़ नहीं पा रहा है, सिर्फ उड़ने की कोशिश कर रहा है। इसी कोशिश में वह कूद-कूदकर थोड़ा-थोड़ा आगे जा रहा था। लोमड़ी ने उसे पकड़ने के लिए अपनी बोरी नीचे रख दी। उजाला तो चाहता ही यही था। सुनहरी बोरी से निकलकर चुपके से भाग गई। जब उजाला ने देखा कि उसकी दोस्त सुरक्षित होकर दूर चली गई है, तब वह भी फुर्र से उड़ गया। लोमड़ी उसे देखती रह गई। वह दौड़कर बोरी के पास आई। लेकिन बोरी भी ख़ाली थी। बहुत गुस्सा आया बेचारी को। लेकिन उस दिन वह समझ गई कि कोई है, जो उससे भी ज्यादा चतुर है।

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement