For the best experience, open
https://m.grehlakshmi.com
on your mobile browser.

करें सूर्य देवता की आराधना: Surya Devta Vrat

06:30 AM Jun 27, 2024 IST | Srishti Mishra
करें सूर्य देवता की आराधना  surya devta vrat
Surya Devta Vrat
Advertisement

Surya Devta Vrat: रविवार को व्रत कम ही लोग करते हैं। लेकिन इस व्रत की अपनी अलग ही मान्यता है। इसलिए इसे विधिवत कर्ण जरूरी हो जाता है। हिन्दू परिवारों में पूरे हफ्ते में हर दिन को किसी न किसी भगवान को समर्पित किया गया है। जैसे सोमवार भगवान शिव को तो मंगलवार हनुमान जी को, बुधवार गणेश जी को और गुरुवार विष्णु भगवान को। ठीक इसी तरह रविवार का दिन सूर्य देवता को समर्पित माना गया है। हालांकि दूसरे दिनों के मुकाबले रविवार के दिन पूजा और व्रत कम ही लोग करते हैं। लेकिन जो करते हैं, उन्हें इस दिन पूजा के खास नियम याद रखने होंगे। ताकि भक्ति का असल फल मिल सके। ताकि सूर्य देवता दिल से आपको आशीर्वाद दें और आपकी मनोकामना पूरी हो। इसके लिए बहुत ज्यादा मेहनत करने की जरूरत नहीं है बल्कि कुछ बेहद बारीक बातों का ध्यान रख कर अपनी भक्ति को पूरा किया जा सकता है।

Also read: क्या आप जानते हैं कि खरमास के दौरान इन कार्यों को करने पर मिलते हैं दुष्परिणाम: Kharmas 2024 Tips

सनातन धर्म में अपनी मान्यता रखने वाले नारद पुराण में भी सूर्य देवता की आराधना करने को अहम माना गया है। इसमें माना गया है कि रविवार को सूर्य देवता की पूजा अगर विधि विधान से की जाए तो स्वास्थ्य पर इसका अच्छा असर पड़ता है। भक्त को एक तरह से रोगों से मुक्ति ही मिल जाती है। वो आगे का जीवन निरोगी बिता पाता है। भक्त को चिंता, अवसाद जैसी दिक्कतें तो छू भी नहीं पाती हैं।

Advertisement

सूर्य देवता की आराधना करने से पहले जान लीजिए कि इस पूजा और व्रत में लाल रंग का बहुत महत्त्व होता है। इसीलिए इसमें पूजा के समय लाल कपड़े पहनने और लाल चंदन लगाने की सलाह दी जाती है। इस व्रत में कुछ खास लाल रंग की चीजें ही इस्तेमाल की जाती हैं। जैसे- लाल चंदन, गुलाल, लाल वस्त्र आदि।

इस व्रत को शुरू करने से पहले एक नियम याद रखना होगा। वैसे तो ये पूरे साल कभी भी शुरू किया जा सकता है, लेकिन शुक्ल पक्ष के पहले रविवार से इसकी शुरुआत करना ज्यादा फायदेमंद हो सकता है। इस व्रत को शुरू करने के बाद कम से कम एक वर्ष से पहले इसको समाप्त न करें। पांच साल बाद इसका समापन करना भी लाभकारी हो सकता है।

Advertisement

याद रखिए नव ग्रहों का राजा सूर्य भगवान को माना गया है। इसलिए इनकी प्रार्थना करने से व्यक्ति के सभी ग्रह शांत हो जाते हैं। भले ही आप रोज सूरज भगवान को अर्घ्य देती हों लेकिन रविवार के दिन पूजा कुछ ज्यादा विधिवत करनी होगी।

इस पूजा में आमतौर पर बनने वाले प्रसाद से काम नहीं चलेगा। बल्कि इसके लिए प्रसाद भी कुछ खास बनाना होता है। इसमें गुड़  का हलवा बनाया जाता है। है न कुछ अलग प्रसाद।

Advertisement

याद रखें, आपको भोजन दिनभर में एक बार ही करना होगा। इतना ही नहीं, पूजा सूरज डूबने से पहले करनी होगी।

Advertisement
Advertisement