For the best experience, open
https://m.grehlakshmi.com
on your mobile browser.

ताजमहल किसका - दादा दादी की कहानी

10:00 AM Sep 22, 2023 IST | Reena Yadav
ताजमहल किसका   दादा दादी की कहानी
tajmahal kiska , dada dadi ki kahani
Advertisement

Dada dadi ki kahani :अजय, विजय और संजय तीन दोस्त थे। तीनों एक बार आगरा घूमने गए। आगरा में ताजमहल है यह बात तो तुम जानते ही होगे। ताजमहल बहुत ही सुंदर इमारत है। संसार के सात आश्चर्यों में से एक।

ये तीनों दोस्त भी ताजमहल देखने गए। थोड़ी देर तक वहाँ घूमने-फिरने के बाद वे तीनों ताजमहल के एक ओर लगी घास में जाकर लेट गए।

संजय आँखें बंद करके लेटा हुआ था। अजय ने सोचा कि संजय सोया हुआ है। उसने विजय से कहा-'ताजमहल तुझे कैसा लगा?'

Advertisement

'बहुत अच्छा।' विजय बोला।

'खरीदेगा?' अजय ने विजय के साथ मज़ाक किया।

Advertisement

'मैं ..... मैं कैसे ख़रीद सकता हूँ, बहुत महँगा होगा न! विजय घबराकर बोला। बेचारा थोड़ा सीधा-सादा-सा था। उसे समझ में ही नहीं आया कि अजय उसे यूँ ही बुद्धू बना रहा है।

'घबरा मत, सस्ते में मिल रहा है।' अजय ने कहा।

Advertisement

'पर मेरे पास तो बस दो हजार रुपए हैं। इतने में मिलेगा क्या? खुशी के कारण उसकी आवाज़ तेज़ हो गई थी।

'धीरे बोल', अजय ने कहा, 'कहीं अगर संजय ने सुन लिया तो सब गड़बड़ हो जाएगी।'

'अच्छा ठीक है। बोल, दो हज़ार में मिलेगा?' विजय ने धीरे से पूछा।

'देख, तू मेरा दोस्त है इसलिए सौदा पटा लूँगा। ला दे दो हज़ार रुपए।' अजय धीरे से बोला।

तभी संजय, जो लेटकर उनकी बातें सुन रहा था, उठकर बैठ गया। वह अजय पर चिल्लाते हुए बोला, 'कैसा दोस्त है तू, मेरा कम-से-कम दस हज़ार का ताजमहल तू सिर्फ दो हज़ार में बिकवा रहा है।

'तेरा ताजमहल?' अजय और विजय एक साथ बोल पड़े।

'हाँ भाई मेरा...... रहने दो तुम दोनों। मुझे नहीं बेचना है अपना ताजमहल।' संजय गुस्से में बोला।

संजय इतने स्वाभाविक ढंग से सब बातें कह रहा था कि अजय चक्कर में पड़ गया। उसे लगने लगा जैसे कि संजय वाकई ताजमहल का मालिक है।

वह बोला, 'माफ़ करना भाई, मैं तो बस ऐसे ही मज़ाक कर रहा था। ये लो विजय अपने रुपए।'

विजय समझ नहीं पा रहा था कि आख़िर हो क्या रहा है!

तब संजय ने कहा, 'तो मैं कौनसा सच बोल रहा हूँ अजय। तुमने विजय को बेवकूफ़ बनाना चाहा और उसके जवाब में मैंने तुम्ही को चक्कर में डाल दिया। क्यों ठीक कहा न मैंने?'

अजय बेचारा शर्मिंदा हो गया।

और ताजमहल का क्या हुआ? अरे भाई, ताजमहल तो बादशाह शाहजहाँ ने बनवाया था और हमेशा उन्हीं का रहेगा।

Advertisement
Tags :
Advertisement