For the best experience, open
https://m.grehlakshmi.com
on your mobile browser.

छोले खाने के बाद नहीं होगी ब्लोटिंग की समस्या, बस इन टिप्स को करें फॉलो: Solution of Bloating

09:30 AM May 04, 2024 IST | Mitali Jain
छोले खाने के बाद नहीं होगी ब्लोटिंग की समस्या  बस इन टिप्स को करें फॉलो  solution of bloating
Solution of Bloating
Advertisement

Solution of Bloating: उत्तर भारत में लोग छोले खाना बेहद पसंद करते हैं। इसे रोटी से लेकर पूरी, भठूरे और चावलों आदि के साथ खाया जाता है। यह एक ग्रेवी वाली सब्जी है, जिसे कई तरीकों से लोग खाते हैं। इसका टेस्ट काफी अच्छा होता है और इसे हेल्थ के लिए भी काफी अच्छा माना जाता है। फाइबर, प्रोटीन, विटामिन और मिनरल्स से भरपूर छोले सेहत को काफी फायदा पहुंचाते हैं। हालांकि, अक्सर यह देखने में आता है कि जब लोग बहुत ज्यादा छोले खा लेते हैं तो इससे उनके पाचन तंत्र पर नेगेटिव असर भी पड़ता है।

हो सकता है कि छोले खाने के बाद आपको अक्सर ब्लोटिंग या पेट में दर्द की शिकायत हो। ऐसा होना आम बात है। बहुत अधिक छोले खाना या फिर सही तरह से छोले का सेवन ना करने से यह समस्या हो सकती है। हालांकि, कुछ छोटे-छोटे टिप्स को अपनाकर आप इस समस्या से आसानी से बच सकते हैं। तो चलिए आज इस लेख में हम आपको कुछ ऐसे ही छोटे-छोटे टिप्स के बारे में बता रहे हैं, जिन्हें अपनाकर आप छोले खाने के बाद होने वाली ब्लोटिंग की समस्या से आसानी से बच सकते हैं-

Also read: क्यों होती है ब्लोटिंग? क्या है इसका खतरा, जानें कारण और घरेलू इलाज: Bloating Causes and Remedy

Advertisement

Solution of Bloating
Solution of Bloating

छोले से होने वाली ब्लोटिंग की समस्या के बारे में जानने से पहले हम छोले खाने से सेहत को मिलने वाले कुछ फायदों के बारे में बात करेंगे-

  • छोले प्लांट बेस्ड प्रोटीन का अच्छा सोर्स माने जाते हैं और इसलिए इन्हें वेजिटेरियन व वीगन के लिए काफी अच्छा माना जाता है।
  • छोले में सॉल्यूबल और इनसॉल्यूबल फाइबर दोनों ही उच्च मात्रा में होते हैं। सॉल्यूबल फाइबर कोलेस्ट्रॉल लेवल को कम करने और ब्लड शुगर लेवल को बैलेंस करने में मदद करता है, जबकि इनसॉल्यूबल फाइबर पाचन में सहायता करता है और कब्ज को रोकता है।
  • छोले में मौजूद फाइबर बाउल मूवमेंट को रेग्युलेट करता है और गट हेल्थ को बनाए रखते हुए पाचन तंत्र को बेहतर तरीके से काम करने में मदद रकता है।
  • हाई फाइबर और प्रोटीन सामग्री के कारण छोले आपको अधिक तृप्त महसूस करवाता है। जिससे आप ओवरईटिंग से बचता है और इससे वजन को मेंटेन रखना भी काफी आसान हो जाता है।
  • छोले का ग्लाइसेमिक इंडेक्स कम होता है, जिसका अर्थ है कि वे हाई ग्लाइसेमिक इंडेक्स वाले फूड्स की तुलना में ब्लड शुगर के स्तर में धीमी और अधिक क्रमिक वृद्धि करते हैं। छोले में फाइबर, पोटेशियम और अन्य पोषक तत्वों का कॉम्बिनेशन कोलेस्ट्रॉल के लेवल को कम करके, रक्तचाप को कम करके और हृदय रोगों के खतरे को कम करने में मदद कर सकता है।
  • चने में फोलेट, आयरन, फास्फोरस और मैंगनीज सहित विभिन्न प्रकार के विटामिन और मिनरल्स होते हैं, जो ओवर ऑल हेल्थ का ख्याल रखते हैं।

छोले खाने के बाद अधिकतर लोगों को ब्लोटिंग की शिकायत होती है। लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि वास्तव में ऐसा क्यों होता है। ऐसा इसलिए होता है, क्योंकि छोले में फाइबर बहुत अधिक पाया जाता है। ऐसे में आपके आंत में गैस बन सकती है और आपको ब्लोटिंग हो सकती है। इतना ही नहीं, छोले में कुछ ऐसे कंपाउंड पाए जाते हैं, जो पेट फूलने व पेट से जुड़ी अन्य समस्या की वजह बन सकते हैं।

Advertisement

Solution of Bloating
Solution of Bloating

अगर आपको छोले खाने के बाद ब्लोटिंग की शिकायत होती है तो उससे बचने के लिए आप कुछ आसान व छोटे-छोटे टिप्स अपना सकते हैं। मसलन-

  • छोले को ठीक तरह से पकाएं। चनों को रात भर भिगोकर रखें और फिर इन्हें नरम होने तक अच्छी तरह पकाएं। अधिक पके हुए छोले पचाने में आसान होते हैं। वहीं, अधपके छोले खाने से आपको ब्लोटिंग की शिकायत हो सकती है।  
  • अगर आप छोले खा रहे हैं तो पूरा दिन खूब सारा पानी पीएं। इससे पाचन में सहायता मिलती है। साथ ही साथ, कब्ज और ब्लोटिंग को रोकने में मदद मिल सकती है। पर्याप्त पानी पीने से गैस बनने की संभावना कम हो जाती है। 
  • आप कैन्ड छोलों का इस्तेमाल कर सकते हैं। ये पहले से ही भिगोकर पकाए जाते हैं, जिससे कुछ लोगों के लिए उन्हें पचाना आसान हो जाता है। बस अतिरिक्त सोडियम निकालने के लिए उन्हें अच्छी तरह से धोना सुनिश्चित करें।
  • एकदम से बहुत अधिक छोले ना खाएं। अचानक से फाइबर का सेवन बढ़ाने से आपका पाचन तंत्र ख़राब हो सकता है। इसलिए, छोले की मात्रा का खास ख्याल रखें।
  • जब भी आप खाना खाते हैं तो उसे आराम से व अच्छी तरह चबाकर खाना बेहद जरूरी होता है। जब आप जल्दी-जल्दी खाते हैं, तो बड़े भोजन के कण आपके पेट में पहुंच जाते हैं, जिससे आपके पाचन तंत्र के लिए उन्हें तोड़ना कठिन हो जाता है। 
  • ब्लोटिंग से बचने और पाचन में मदद करने के लिए आप छोले बनाते समय उसमें कुछ हर्ब्स और मसाले, जैसे जीरा, अदरक और सौंफ आदि का इस्तेमाल करें। इससे ना केवल छोले का स्वाद बढ़ेगा, बल्कि पाचन में भी मदद मिलेगी। साथ ही साथ, आपको ब्लोटिंग की शिकायत भी नहीं होगी।
  • यदि आपको अक्सर ब्लोटिंग या पेट फूलने की समस्या होती है, तो छोले खाते समय अन्य गैस पैदा करने वाले फूड आइटम्स जैसे ब्रोकोली, पत्तागोभी और कार्बोनेटेड ड्रिंक्स आदि का सेवन बिल्कुल भी ना करें।
Advertisement
Advertisement
Tags :
Advertisement