For the best experience, open
https://m.grehlakshmi.com
on your mobile browser.

इंदौर का अनोखा शनि मंदिर, सिंदूर और सोलह शृंगार से सजे शनिदेव देते हैं दर्शन: Indore Shani Mandir

06:00 AM Jun 29, 2024 IST | Ayushi Jain
इंदौर का अनोखा शनि मंदिर  सिंदूर और सोलह शृंगार से सजे शनिदेव देते हैं दर्शन  indore shani mandir
Indore Shani Mandir
Advertisement

Indore Shani Mandir: शनिदेव का नाम सुनते ही अधिकतर लोगों के मन में एक विशिष्ट छवि उभरती है: काली शिला, सरसों का तेल, और काले वस्त्रों से सजाए गए शनिदेव। हर शनि मंदिर में अक्सर यही दृश्य देखने को मिलता है। शनिदेव की इस पारंपरिक पूजा पद्धति के साथ लोग दशकों से जुड़े हुए हैं। लेकिन आज हम आपको एक ऐसे अनोखे शनि मंदिर के बारे में बताने जा रहे हैं, जहां शनिदेव को तेल नहीं, बल्कि दूध चढ़ाया जाता है, और उनका सोलह शृंगार किया जाता है। यह विशेष जानकारी हमें प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्य राधाकांत वत्स से प्राप्त हुई है। चलिए, जानते हैं इस मंदिर की अद्वितीयता और इसके पीछे छिपी पौराणिक कथा।

Also read: इन 4 राशियों पर 2.5 महीने तक बरसेगा शनि का कहर, बचाव के लिए करें ये उपाय: Shani Dev Astro Tips

कहां है शनिदेव का ये अनोखा मंदिर

इंदौर शहर के जूनी इंदौर इलाके में स्थित शनिदेव का एक अनोखा और अद्भुत मंदिर है। इस मंदिर की खासियत यह है कि यहां हमेशा भक्तों की भीड़ लगी रहती है। इसकी वजह यहां स्थापित शनिदेव का अनूठा स्वरूप है। इस मंदिर में शनिदेव का सोलह शृंगार किया जाता है, जो उन्हें विशेष बनाता है। इसके अलावा, यहां शनिदेव पर सरसों का तेल नहीं, बल्कि शिवलिंग की तरह दूध चढ़ाया जाता है। इस मंदिर की यह विशेष पूजा पद्धति इसे अन्य शनि मंदिरों से अलग और आकर्षक बनाती है, जिससे श्रद्धालुओं की आस्था और भी गहरी होती है।

Advertisement

सिंदूरी शनि महाराज के नाम से प्रसिद्ध है ये मंदिर

सिंदूरी शनि महाराज के नाम से प्रसिद्ध इस मंदिर में शनिदेव की पूजा का तरीका अनोखा है। यहां शनिदेव को तेल नहीं, बल्कि दूध और जल अर्पित किया जाता है। मान्यता है कि एक बार शनिदेव ने इस जगह पर भगवान शिव की पूजा की और उनका सुंदर शृंगार किया। इससे प्रसन्न होकर भगवान शिव ने शनिदेव को वरदान दिया कि यह स्थान अब शनिदेव का होगा और यहां उनका हमेशा भव्य शृंगार किया जाएगा। जो भी भक्त शनिदेव को सिन्दूर चढ़ाएगा, उसे साढ़े साती और ढैय्या के कष्टों से मुक्ति मिलेगी।

इस मंदिर में शनिदेव को राजसी वस्त्र पहनाए जाते हैं और उनकी पूजा और शृंगार में करीब 6 घंटे का समय लगता है। शाम के समय आरती से पहले शहनाई बजाई जाती है, और आरती के दौरान भी शहनाई की मधुर धुन गूंजती रहती है। यहां स्थापित शनिदेव की प्रतिमा को जीवंत माना जाता है, जिससे भक्तों की श्रद्धा और भी गहरी हो जाती है।

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement