For the best experience, open
https://m.grehlakshmi.com
on your mobile browser.

शादी में वरमाला क्यों पहनाई जाती है? जानें हिंदू धर्म में होने वाली इस रस्म का महत्व: Varmala Significance

Varmala In Indian Weddings: लगभग सभी धर्मों में शादी के दौरान कई तरह की रस्में मनाई जाती हैं। कई रस्में वक्त के साथ थोड़ी मॉर्डन हो चुकी हैं, लेकिन उनके मूल रूप में कोई बदलाव नहीं है। अगर बात की जाए हिंदू धर्म की, तो शादी के दौरान न जानें कितनी ही रस्में निभाई जाती हैं। ऐसे ही एक रस्म है, जिसे जयमाला या वरमाला के नाम से जाना जाता है। क्या आपने कभी इसके नाम के बारे में या इस रस्म के महत्व के बारे में सोचा है? अगर नहीं सोचा, तो आज हम आपको इस रस्म का मतलब और इसका महत्व बताएंगे। शायद इसके बारे में आपने पहले कभी न सुना हो।
08:00 PM Nov 18, 2023 IST | Nikki Kumari
शादी में वरमाला क्यों पहनाई जाती है  जानें हिंदू धर्म में होने वाली इस रस्म का महत्व  varmala significance
Varmala Significance
Advertisement

Varmala Significance: लगभग सभी धर्मों में शादी के दौरान कई तरह की रस्में मनाई जाती हैं। कई रस्में वक्त के साथ थोड़ी मॉर्डन हो चुकी हैं, लेकिन उनके मूल रूप में कोई बदलाव नहीं है। अगर बात की जाए हिंदू धर्म की, तो शादी के दौरान न जानें कितनी ही रस्में निभाई जाती हैं। ऐसे ही एक रस्म है, जिसे जयमाला या वरमाला के नाम से जाना जाता है।

क्या आपने कभी इसके नाम के बारे में या इस रस्म के महत्व के बारे में सोचा है? अगर नहीं सोचा, तो आज हम आपको इस रस्म का मतलब और इसका महत्व बताएंगे। शायद इसके बारे में आपने पहले कभी न सुना हो।

Also read : वैवाहिक जीवन के दिक्कतों से बचाव करेंगे शुक्रवार के ये उपाय: Married Life Vastu Upay

Advertisement

क्यों कहते हैं वरमाला?

अगर आपके मन में भी ये सवाल है कि इसे वरमाला ही क्यों कहा जाता है और वधुमाला क्यों नहीं, तो आपको बताते हैं इसके पीछे की बड़ी वजह। दरअसल वरमाला पहनाने का कनेक्शन लड़की द्वारा लड़के को स्वीकार कर लेने से है। ये रस्म रामायण काल से ही चली आ रही है। जिस तरह से माता सीता ने भगवान राम को अपने वर के रूप में स्वीकार करते हुए उन्हें वरमाला पहनाई थी।

इसके बाद से ही हिंदू धर्म में इस रस्म की शुरूआत हुई। पहले के समय में लड़कियां अपने वर को चुनने के बाद उन्हें सबसे पहले माला पहनाती थीं, इसलिए इस रस्म का नाम वरमाला पड़ गया। वहीं कई जगहों पर इसे जयमाला के नाम से भी जाना जाता है।

Advertisement

क्यों पहनाई जाती है वरमाला?

Why is garland worn?
Why is garland worn?

आपको बता दें कि वरमाला पहनाने का सीधा मतलब है सामने वाले को स्वीकार करना। पुराने समय में जब लड़का और लड़की दोनों एक-दूसरे को माला पहना देते थे, तो इसे उनकी मनजूरी माना जाता था। इसका अर्थ है कि दूल्हा-दुल्हन ने एक दूसरे को पसंद कर लिया है। प्राचीनकाल में गंधर्व विवाह में भी इस रस्म को निभाया जाता था।

स्वयंवर में भी है वरमाला की रस्म

आपने अक्सर पुराने समय में होने वाले स्वयंवर के बारे में सुना होगा। स्वयंवर में सीधे तौर पर लड़का-लड़की का विवाह नहीं किया जाता है। बल्कि जैसे ही लड़की या लड़का एक दूसरे को पसंद कर लेते थे, तो वो बिना कुछ कहे अपनी स्वीकृति दर्शाने के लिए वरमाला पहनाया करते थे। शिव पुराण में भी शिव और पार्वती के स्वयंवर और वरमाला का जिक्र मिलता है।

Advertisement

यह भी देखें-शादी के बाद महिलाएं बिछिया क्यों पहनती हैं? जानें: Women Wear Toe Ring

एक मजेदार रस्म

Varmala Significance-a fun ritual
Varmala Significance-a fun ritual

आजकल इस रस्म को लोग बहुत ही फन वे में लेते हैं। इस रस्म के दौरान लड़का-लड़की कोशिश करते हैं कि उनके पार्टनर को वरमाला पहनाने में काफी मेहनत लगे। इसे आसपास खड़े मेहमान भी काफी एंजॉय करते हैं।

Advertisement
Tags :
Advertisement