For the best experience, open
https://m.grehlakshmi.com
on your mobile browser.

13 दिन बाद क्यों की जाती है तेरहवीं? जानें इसके धार्मिक और वैज्ञानिक महत्त्व: Terahvi Sanskar

06:00 AM Jun 23, 2024 IST | Ayushi Jain
13 दिन बाद क्यों की जाती है तेरहवीं  जानें इसके धार्मिक और वैज्ञानिक महत्त्व  terahvi sanskar
Terahvi Sanskar
Advertisement

Terahvi Sanskar: तेरहवीं, हिंदू धर्म में एक महत्वपूर्ण आध्यात्मिक अवसर है जो मृत्यु के बाद आता है। इस अवधि में, परिजन और अन्य सम्बंधित व्यक्तियों के लिए शोक और अनुशासन का समय होता है। यहां तक कि इसके अनुसार विशेष रीति-रिवाज भी मान्य होते हैं, जिसमें तेरहवें दिन ब्राह्मण भोज आयोजित किया जाता है ताकि मृतक की आत्मा को शांति प्राप्त हो सके। इस परंपरा के महत्व को समझने के लिए ज्योतिष एक्सपर्ट डॉ. राधाकांत वत्स से हम जान सकते हैं कि यह समय आध्यात्मिक उन्नति और मृतक के आत्मिक शुद्धि के लिए क्यों महत्वपूर्ण है।

Also read: अपने खास त्योहारों और अनोखे रीति-रिवाजों से पूरे देश में जाने जाते हैं, ये शहर: Unique Culture Cities

तेरहवीं का धार्मिक महत्व

हिन्दू धर्म में तेरहवीं को महत्वपूर्ण माना जाता है क्योंकि इस अवधि में मान्यता है कि मृतक की आत्मा अपने पापों से मुक्ति प्राप्त कर भगवान के धाम को प्राप्त होती है। इस दौरान ब्राह्मण भोज का आयोजन किया जाता है, जिससे कि सभी आवश्यक संस्कार और क्रियाएँ सम्पन्न हों। यदि इसे न किया जाए, तो मान्यता है कि मृतक की आत्मा को आगामी जन्म में कष्ट भुगतना पड़ सकता है। इसलिए तेरहवीं को धार्मिक और सामाजिक दृष्टिकोण से बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है, जो मृतक की आत्मा को शांति और मुक्ति की प्राप्ति में सहायक होता है।

Advertisement

मृतक की आत्मा तेरह दिनों तक अपने परिवार के पास रहती है

हिन्दू धर्म में तेरहवीं का धार्मिक महत्व विशेष रूप से मृत्यु के बाद आत्मिक शांति और परिवारिक सम्बन्धों को समझाता है। गरुड़ पुराण के अनुसार, मृतक की आत्मा तेरह दिनों तक अपने परिवार के पास रहती है और उनके किए जाने वाले धार्मिक कार्यों को ध्यान से देखती है। इसका मान्यता से चिता देने वाले को एक पल के लिए भी अकेला नहीं छोड़ा जाता है, ताकि मृतक की आत्मा को शांति मिले।

तेरहवें दिन के दौरान विशेष प्रकार के संस्कार आयोजित किए जाते हैं, जैसे ब्राह्मण भोज और पिंडदान। इन कार्यों के माध्यम से मृतक की आत्मा को शांति प्रदान की जाती है और उसे भगवान के धाम में स्थान प्राप्त होने की कामना की जाती है। तेरहवें दिन एक महत्वपूर्ण अवसर है जो धार्मिक संस्कारों के माध्यम से परिवारिक समृद्धि और शांति को संरक्षित करता है।

Advertisement

तेरहवीं का वैज्ञानिक महत्व

तेरहवीं का वैज्ञानिक महत्व समझने के लिए, हमें यह समझना होगा कि डिप्रेशन और मानसिक स्वास्थ्य के बीच कैसा संबंध है। जब किसी के पास अपने प्रियजन की मृत्यु का दुख होता है, तो उसका मानसिक संतुलन भंग हो सकता है। इस दौरान व्यक्ति अकेलापन और उदासीनता महसूस कर सकता है, जो डिप्रेशन के लिए एक प्रेरणास्पद कारक हो सकता है। तेरहवीं के दौरान, परिवार और समाज द्वारा साझा की जाने वाली बातचीत और सहानुभूति का समय होता है। इस अवसर पर, व्यक्ति को अपने भावनाओं को साझा करने और उन्हें समझने का मौका मिलता है। यह मदद कर सकता है कि उनका मानसिक संतुलन बना रहे और वे समाज में पुनः समाहित हो सकें।

Advertisement
Advertisement
Tags :
Advertisement